सवाल ये उठ रहा है कि क्या एक्जिट पोल पर भरोसा किया जा सकता है, दिल्ली बीजेपी प्रमुख मनोज तिवारी ने कहा है कि सभी एक्जिट पोल्स फेल होंगे।

दिल्ली विधानसभा चुनाव के लिये शनिवार को मतदान हो चुका है, प्रत्याशियों की किस्मत का फैसला ईवीएम में कैद हो चुका है, वोटिंग के बाद तमाम न्यूज चैनलों ने एक्जिट पोल प्रसारित किया है, जिसमें एक बार फिर आम आदमी पार्टी की सरकार बनने की संभावना जताई जा रही है, दिल्ली में आप को 70 में से 50 सीटें मिलती दिख रही है, बीजेपी ने दिल्ली में बहुत ही आक्रामक ढंग से प्रचार किया, लेकिन इसके बावजूद उन्हें सिर्फ 14 सीटें ही मिलती दिख रही है, कांग्रेस बमुश्किल 1 सीट जीत सकती है।

एक्जिट पोल के नतीजे भरोसेमंद?
सवाल ये उठ रहा है कि क्या एक्जिट पोल पर भरोसा किया जा सकता है, दिल्ली बीजेपी प्रमुख मनोज तिवारी ने कहा है कि सभी एक्जिट पोल्स फेल होंगे, उन्होने ट्विटर पर लिखा है कि बीजेपी 48 सीटें जीतकर दिल्ली में सरकार बना रही है, कृपया ईवीएम को दोष देने का अभी से बहाना ना ढूंढे।

2013 एक्जिट पोल
2013 विधानसभा चुनाव में भी एक्जिट पोल फेल हुए थे, तब आम आदमी पार्टी को कम आंका गया था, हालांकि चुनाव परिणाम में आप ने 28 सीटें जीतते हुए सबको चौंका दिया था, बीजेपी सबसे बड़ी पार्टी बनकर आई थी और 32 सीटें जीती थी, कांग्रेस को 15 से 24 सीटें दिखाई गई थी, लेकिन परिणाम में सिर्फ 8 सीटें ही मिली।

2015 विधानसभा चुनाव
2015 विधानसभा चुनाव में आप ने 70 में से 67 सीटें हासिल की थी, तब एक्जिट पोल में आप को 35 से 45 सीटें दिखाई गई थी, वहीं बीजेपी को दहाई के आंकड़े में दिखाया गया था, इंडिया टीवी सी वोटर ने बीजेपी को 33 सीटें दिखाई थी, लेकिन जब परिणाम आये तो बीजेपी सिर्फ 3 सीटों पर सिमट गई, जबकि कांग्रेस का खाता भी नहीं खुला।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here