रघुवर की बेटी ने बताया आखिरी अपनी सीट भी क्यों हार गये पापा, दामाद ने कहा ‘उनके लिये हम हैं नहीं’

0
191
Loading...

रघुवर दास सख्त लहजे में ऐसे लोगों को मना कर देते थे, इसी वजह से अपनी ही पार्टी के लोग उनके खिलाफ दुष्प्रचार में लग गये।

झारखंड विधानसभा चुनाव में सीएम रघुवर दास अपनी भी सीट नहीं बचा सके, इसका दर्द छत्तीसगढ के दुर्ग तक महसूस किया गया, दुर्ग में रहने वाली रघुवर दास के बेटी रेणु साहू दिन भर नतीजों पर नजर बना कर रखी, पिता की हार से दुखी रेणु दिनभर उदास अपने कैमरे में बैठी रही, रेणु से जब उनके पिता के हार की वजह पूछी गई, तो उन्होने कहा कि उनकी स्पष्टवादिता, इसके साथ ही उन्होने रघुवर दास की कुछ कमजोरियों पर भी बात की, जिन्हें वो पिता के हार का कारण मानती हैं।

पापा बेहद ईमानदार और कर्मठ
रेणु साहू ने कहा कि कार्यकर्ता और सरयू राय के दुष्प्रचार ने आग में घी का काम किया, जिससे पापा चुनाव हार गये, रेणु और दामाद यशपाल साहू ने नई दुनिया अखबार से बातचीत की, उन्होने कहा कि पापा बेहद ही स्पष्टवादी हैं, जब वो प्रदेश के सीएम बनें, तभी से कुछ कार्यकर्ताओं की बिजनेस उम्मीद बढ गई थी, किसी को शराब, किसी को कोयला का ठेका तो किसी को कुछ और चाहिये था, पापा बेहद ईमानदार ठहरे, पार्टी और प्रदेश के लिये कर्मठ हैं, वो किसी भी कार्यकर्ता को गलत और अनैतिक काम करने नहीं देते।

सरयू राय शुरु से करते रहे दुष्प्रचार
रघुवर दास सख्त लहजे में ऐसे लोगों को मना कर देते थे, इसी वजह से अपनी ही पार्टी के लोग उनके खिलाफ दुष्प्रचार में लग गये, सरयू राय पर बोलते हुए उन्होने कहा कि सरयू और कुछ कार्यकर्ता शुरु से ही दुष्प्रचार करते रहे, रघुवर दास की एक बेटी और एक बेटा है, बेटी की शादी दुर्ग के यशपाल से हुई है, यशपाल एनटीपीसी-सेल पावर कंपनी लिमिटेड में डिप्टी मैनेजर के पद पर कार्यरत हैं।

घर वालों से ज्यादा राज्य और पार्टी की चिंता
रघुवर दास पर लग रहे आरोपों पर दामाद यशपाल ने कहा कि ये सफेद झूठ है, किसी शख्स को उनके घर वालों से बेहतर कोई नहीं जान सकता, इसलिये ये तो मैं दावे से कह सकता हूं, कि पापा के लिये हम लोग थे ही नहीं, उनके लिये घर वालों से ज्यादा बीजेपी परिवार और झारखंड की जनता ही मायने रखती है। उन्होने पहले झारखंड और बीजेपी को तवज्जो दिया।

Loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here