नागरिकता कानून- बीजेपी ने जारी किया मनमोहन सिंह का वीडियो, कहा इनकी ही तो बात मानी

0
165
Loading...

मनमोहन सिंह ने कहा बंटवारे के बाद हमारे कई पड़ोसी देशों में से एक बांग्लादेश में धार्मिक आधार पर नागिरकों का उत्पीड़न किया गया, अगर ये प्रताड़ित लोग हमारे देश में शरण के लिये आते हैं, तो इन्हें शरण देना हमारा नैतिक दायित्व है।

नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ कांग्रेस विरोध प्रदर्शन कर रही है, कर्नाटक में बड़े पैमाने पर विरोध प्रदर्शन के बाद प्रशासन ने बेंगलुरु और मंगलुरु में निषेधाज्ञा लागू कर दिया है, वहीं राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में 14 मेट्रो स्टेशनों को बंद कर दिया गया है, इसके साथ ही लाल किला के पास धारा 144 लगा दिया गया है, इस बीच कांग्रेस को घेरने के लिये बीजेपी ने पूर्व पीएम मनमोहन सिंह के 2003 में राज्यसभा में दिये गये बयान का वीडियो साझा किया है, वीडियो में मनमोहन सिंह बांग्लादेश में धार्मिक आधार पर हिंसा का शिकार हुए शरणार्थियों के लिये सरकार को सहानुभूति दिखाने का सुझाव दे रहे हैं।

एनडीए की सरकार थी
साल 2003 में केन्द्र में एनडीए की सरकार थी, वाजपेयी जी प्रधानमंत्री थे, तो उस समय राज्यसभा सदस्य मनमोहन सिंह सदन के नेता प्रतिपक्ष थे, तब उन्होने सदन में डिप्टी पीएम लाल कृष्ण आडवाणी को संबोधित करते हुए कहा था कि मैं शरणार्थियों के संकट को आपके सामने रखना चाहता हूं।

उत्पीड़न किया गया
मनमोहन सिंह ने कहा बंटवारे के बाद हमारे कई पड़ोसी देशों में से एक बांग्लादेश में धार्मिक आधार पर नागिरकों का उत्पीड़न किया गया, अगर ये प्रताड़ित लोग हमारे देश में शरण के लिये आते हैं, तो इन्हें शरण देना हमारा नैतिक दायित्व है, इन लोगों को शरण देने के लिये हमारा व्यवहार उदारपूर्ण होना चाहिये, मैं गंभीरता से नागरिकता संशोधन विधेयक की ओर उप प्रधानमंत्री का ध्यान दिलाना चाहता हूं।

प्रशासन की सख्ती
सीएए के खिलाफ हो रहे प्रदर्शन पर अब प्रशासन की सख्ती दिखने लगी है, प्रदर्शनकारियों के दिल्ली के कई इलाकों में बड़ी संख्या में जुटने को देखते हुए मोबाइल सेवाओं को कुछ इलाकों में बंद कर दिया गया है, इसके साथ ही इंटरनेट सेवा भी बाधित है, पुलिस को सूचना मिली है, कि कुछ इलाकों में प्रदर्शनकारी बड़ी संख्या में जुट रहे हैं, और उग्र विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं, जिसके बाद ऐहतियातन ये कदम उठाया गया है।

Loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here