sachin pilot gahlot

सचिन पायलट के करीबी विधायक जब-जब समस्याएं लेकर सीएम के पास जाते हैं, तो उनकी अनदेखी की जाती है।

एमपी के बाद एक और कांग्रेस शासित बड़े प्रदेश में सियासी पारा चढने लगा है, सीएम अशोक गहलोत और डिप्टी सीएम सचिन पायलट के बीच विधानसभा चुनाव में जीत के बाद से ही कई महत्वपूर्ण मसलों पर मतभेद रहे हैं, अब राजस्थान बीजेपी के एक नेता ने ये कहकर चौंका दिया है कि कांग्रेस के 3 दर्जन असंतुष्ट विधायक बीजेपी के संपर्क में हैं, बीजेपी सूत्रों पर भरोसा किया जाए, तो एमपी में सीएम कमलनाथ की तरह ही राजस्थान सरकार भी खतरे में है।

पायलट खेमा नाराज
सूत्रों का दावा है कि डिप्टी सीएम सचिन पायलट सीएम अशोक गहलोत की कार्यशैली से संतुष्ट नहीं हैं, बताया जाता है कि सचिन पायलट ने इस बारे में कांग्रेस नेतृत्व से भी बात की, लेकिन कुछ खास सुनवाई नहीं हुई, पायलट के अलावा उनके गुट के विधायक भी अशोक गहलोत से नाराज बताये जाते हैं। वो खुलकर कई बार बयानबाजी भी कर चुके हैं।

विधायक भी हैं नाराज
सचिन पायलट के करीबी विधायक जब-जब समस्याएं लेकर सीएम के पास जाते हैं, तो उनकी अनदेखी की जाती है, विधानसभा चुनाव के बाद ही कांग्रेस हाईकमान द्वारा गहलोत को कमान सौंपे जाने को लेकर सचिन पायलट नाराज हो गये थे, तब उन्हें डिप्टी सीएम की कुर्सी देकर मनाया गया था।

विधानसभा का मौजूदा गणित
राजस्थान विधानसभा में कुल 200 सीटें हैं, सरकार बनाने के लिये 101 विधायकों की जरुरत होती है, 2018 विधानसभा चुनाव में कांग्रेस को 99 सीटों पर जीत मिली थी, सहयोगी और निर्दलीय विधायकों की मदद से कांग्रेस ने आसानी से बहुमत का आंकड़ा पार कर लिया है, दूसरी ओर बीजेपी को 73 सीटें मिली थी, यानी बीजेपी बहुमत से 28 सीटें पीछे है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here