maya brij

रिटायर्ड आईपीएस अधिकारी बृजलाल 2015 में बीजेपी में शामिल हो गये थे, उनके बीजेपी में शामिल होने से कई लोग हैरान रह गये थे, क्योंकि उन्हें बसपा सुप्रीमो का करीबी माना जाता था।

बीजेपी ने सोमवार को यूपी के लिये अपने राज्यसभा उम्मीदवारों की सूची जारी कर दी है, इस लिस्ट में केन्द्रीय मंत्री हरदीप सिंह पुरी, बीजेपी के राष्ट्रीय महासचिव अरुण सिंह जैसे दिग्गज नेताओं के नाम शामिल हैं। इनके अलावा इस सूची में रिटायर्ड आईपीएस अधिकारी बृजलाल का भी नाम शामिल है, पूर्व आईपीएस बृजलाल यूपी की पूर्व सीएम और बसपा सुप्रीमो मायावती के बेहद करीबी माने जाते थे।

मायावती सरकार में यूपी के डीजीपी
1977 बैच के आईपीएस अधिकारी बृजलाल बसपा चीफ मायावती के बेहद करीबी रहे हैं, 2007 में जब यूपी में मायावती की सरकार बनी थी, तो लॉ एंड ऑर्डर को सुधारने के लिये उन्होने काम किया था, 2011 में मायावती ने दो वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों पर वरीयता देकर उन्हें यूपी का पुलिस महानिदेशक बनाया था, इस पर विपक्षी पार्टियों की शिकायत के बाद 2012 विधानसभा चुनाव से ठीक पहले चुनाव आयोग ने बृजलाल को डीजीपी पद से हटा दिया था।

2015 में बीजेपी में शामिल
रिटायर्ड आईपीएस अधिकारी बृजलाल 2015 में बीजेपी में शामिल हो गये थे, उनके बीजेपी में शामिल होने से कई लोग हैरान रह गये थे, क्योंकि उन्हें बसपा सुप्रीमो का करीबी माना जाता था, साल 2018 में यूपी की योगी सरकार ने बृजलाल को महत्वपूर्ण भूमिका देते हुए यूपी अनुसूचित जाति और जनजाति आयोग का अध्यक्ष बनाया था। बृजलाल को सख्त प्रशासनिक अधिकारी माना जाता है, उन्होने राज्य में माफियाओं डकैतों के खिलाफ कई सफल अभियान चलाये, बृजलाल ने खुद कई मुठभेड़ों का नेतृत्व भी किया, उनके सेवाकाल में सैकड़ों अपराधी और आतंकी मारे गये, उन्हें राष्ट्रपति पुरस्कार से भी सम्मानित किया जा चुका है।

अब राज्यसभा के सदस्य होंगे बृजलाल
यूपी के सिद्धार्थनगर में जन्मे बृजलाल अब संसद के ऊपरी सदन के सदस्य होंगे, 11 नवंबर को यूपी कोटो की 10 राज्यसभा सीटों पर वोट डाले जाएंगे, जिसमें से 9 सीटों के नतीजे लगभग स्पष्ट है, 8 सीटें बीजेपी के खाते में जा रही है, वहीं एक सीट समाजवादी पार्टी के खाते में जा रही है, बृजलाल का नाम बीजेपी के न 8 उम्मीदवारों में शामिल है, जिनका राज्यसभा पहुंचना लगभग तय माना जा रहा है।

Read Also – नीतीश कुमार ने बीजेपी को दिया बड़ा झटका, चुनाव से पहले ही सेंधमारी!