Friday, April 23, 2021

जीवनसंगिनी भी मिली और बीजेपी का टिकट भी, बाबुल सुप्रियो के लिये बेहद लकी रहा हवाई सफर!

बाबुल सुप्रियो ने साल 2014 में राजनीति में कदम रखा था, उनकी पॉलिटिकल एंट्री में हवाई जहाज का काफी बड़ा रोल है।

पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव में ममता बनर्जी की पार्टी और बीजेपी के बीच सीधी टक्कर बतायी जा रही है, तमाम ओपिनियन पोल में दावा किया जा रहा था कि बाकी पार्टियां पीछे छूट रही है, लोग इन दोनों के बीच ही अपने वोट को लेकर फैसला लेंगे, बीजेपी ने ममता बनर्जी को घेरने के लिये पूरा जोर लगा दिया है, बीजेपी ने अपने 5 मौजूदा सांसदों को भी विधानसभा चुनाव का टिकट दिया है, उन्हीं सांसदों में एक नाम है स्टार प्लेबैक सिंगर बाबुल सुप्रियो का, जो आसनसोल से सांसद हैं, लेकिन पार्टी ने उन्हें ट्रालीगंज विधानसभा सीट से उम्मीदवार बनाया है।

2014 में राजनीतिक एंट्री
बाबुल सुप्रियो ने साल 2014 में राजनीति में कदम रखा था, उनकी पॉलिटिकल एंट्री में हवाई जहाज का काफी बड़ा रोल है। दरअसल फरवरी 2014 में बाबुल मुंबई से कोलकाता आ रहे थे, तभी सफर के दौरान उनकी मुलाकात योगगुरु स्वामी रामदेव से हुई, सफर में बातचीत के दौरान उन्होने रामदेव से चुनाव लड़ने की इच्छा जताई, तो रामदेव ने उन्हें आसनसोल से बीजेपी का टिकट दिलवा दिया।

दो बार सांसद
आसनसोल से बीजेपी ने दांव लगाया, तो बाबुल सुप्रियो ने भी पार्टी तथा बाबा रामदेव को निराश नहीं किया, पहली बार में ही जीत हासिल कर संसद पहुंच गये, फिर 2019 में दोबारा सांसद बने। पहली बार में पीएम मोदी ने उन्हें कैबिनेट में मंत्री भी बनाया।

हमसफर भी मिला
हवाई सफर ने ना सिर्फ उनकी राजनीति में एंट्री करवाई बल्कि उनको उनके जीवनसाथी से भी मिलवाया, 2014 में सांसद बनने के बाद बाबुल दिल्ली से कोलकाता जेट एयरवेज की फ्लाइट से जा रहे थे, फ्लाइट में उनकी नजर एक एयरहोस्टेस पर पड़ी, रचना शर्मा नाम की उस एयरहोस्टेस पर बाबुल का दिल आ गया, कुछ महीने डेट करने के बाद बाबुल ने रचना से शादी कर ली, आपको बता दें कि रचना उनकी दूसरी पत्नी हैं, बाबुल ने 1995 में रिया सुप्रियो से शादी की थी, हालांकि दोनों का तलाक हो गया था, दोनों की एक बेटी भी है।

Read Also – बिना पैंट ऊपर चढाये बाथरुम से निकल गई मलाइका अरोड़ा!

Related Articles

- Advertisement -spot_img

Latest Articles