एक राजकुमारी से दिल लगा बैठे थे अटल, जीवन भर रहे कुंवारे, दिलचस्प है प्रेम कहानी

0
188
Loading...

अटल बिहारी वाजपेयी कभी विवाह के बंधन में नहीं बंधे, लेकिन उन्होने प्रेम का स्वाद चखा, कहा जाता है कि अटल जी को सच्ची मुहब्बत हुई थी।

बीजेपी के दिग्गज नेता और दिवंगत प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी का आज जन्मदिन है, उनकी राजनीति के बारे में तो कई लोग जानते हैं, वो अपने दल के पहले प्रधानमंत्री बनें, आज हम इस खास मौके पर आपको उनकी पर्सनल लाइफ के बारे में बताते हैं, अटल जी एक राजकुमारी को दिल दे बैठे थे, इसी वजह से वो जीवन भर अविवाहित रहे, उनकी प्रेम कहानी बेहद खूबसूरत है।

राजकुमारी से प्रेम
अटल बिहारी वाजपेयी कभी विवाह के बंधन में नहीं बंधे, लेकिन उन्होने प्रेम का स्वाद चखा, कहा जाता है कि अटल जी को सच्ची मुहब्बत हुई थी, वो भी एक राजकुमारी से, दरअसल बात 1940 के दशक की है, तब अटल जी और राजकुमारी दोनों कॉलेज में थे, पहली बार अटल जी ने राजकुमारी कौल को यही देखा था, लेकिन उस दौर में लड़के लड़कियों से बात करना अच्छा नहीं माना जाता था।

दिलेर अटल जी ने लिखा प्रेम पत्र
उस दौर में प्यार के पंछी लफ्जों में नहीं बल्कि इशारों में बातें करते थे, आंखों ही आंखों में दिल के जज्बातों को बयां किया करते थे, उस समय लड़कियों से बात करना अच्छा नहीं माना जाता था, लेकिन कलम के सिपाही अटल जी ने हिम्मत दिखाते हुए प्रेम पत्र लिखा, लेकिन राजकुमारी की ओर से उस पत्र का कोई जवाब नहीं आया, जिससे बीजेपी के दिग्गज नेता निराश हो गये, इसके बाद उन्होने अपना जीवन जनसंघ और राजनीति में लगा दिया, फिर उन्होने कभी पीछे मुड़कर देखने की कोशिश नहीं की। हालांकि उन्होने कभी अपने प्यार को भूला भी नहीं।

राजकुमारी की शादी
राजकुमारी के पिता सरकारी अधिकारी थे, उन्होने अपनी बेटी की शादी युवा प्रोफेसर ब्रिज नारायण कौल के साथ तय कर दी, राजकुमारी अटल जी से शादी करना चाहती थी, लेकिन उनके घर में इस बात का जबरदस्त विरोध हुई, अटल जी ब्राह्मण थे, लेकिन कौल खुद को उनसे बेहतर कुल का मानते थे, इसी वजह से राजकुमारी के पिता ने अटल जी को दामाद बनाने से मना कर दिया।

एक दशक बाद मुलाकात
राजकुमारी कौल को दिल्ली के राजनीतिक हलकों में लोग मिसेज कौल के नाम से जानते थे, हर किसी को मालूम था कि वो अटल जी के लिये सबसे प्रिय हैं, दोनों अपनी-अपनी दुनिया में खो जाने के बाद करीब डेढ दशक बाद फिर दिल्ली में मिले, तब राजकुमारी के पति दिल्ली के रामजस कॉलेज में फिलॉस्फी पढाते थे, कहा जाता है कि जब अटल जी मोरारसी सरकार में विदेश मंत्री बनें, तो राजकुमारी उनके साथ ही लुटियंस जोन के उनके बंगले में रहने लगे।

विवाह ना हो सका
भले कॉलेज की मित्र राजकुमारी कौल से अटल जी की शादी नहीं हो सकी, लेकिन वो अटल जी के साथ ही उनके बंगले में रहती थी, जब भी कोई अटल जी से मिलने आता, तो राजकुमारी खुद को उनकी दोस्त और रिश्तेदार बताती थी, दोनों ने अपने रिश्ते को भले नाम नहीं दिया, लेकिन हर कोई अटल जी और राजकुमारी का सम्मान करते थे, राजनीति में वाजपेयी जी का कद इतना बड़ा था कि विरोधी और मीडिया भी कभी उनकी निजी जिंदगी में तांक-झांक नहीं की।

Loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here