पार्टी छोड़कर बीजेपी का दामन थामने वाले सभी कार्यकर्ता उद्धव ठाकरे के फैसले से नाराज हैं, दरअसल उद्धव ठाकरे ने अपने धुर विरोधियों एनसीपी और कांग्रेस के साथ मिलकर सरकार बनाई है।

महाराष्ट्र में लंबे जद्दोजहद के बाद एनसीपी और कांग्रेस के साथ मिलकर सरकार बनाने वाली शिवसेना को तगड़ा झटका लगा है, दरअसल शिवसेना के करीब 400 कार्यकर्ताओं ने उद्धव ठाकरे के फैसले से नाराज होकर बीजेपी का दामन थाम लिया है, न्यूज एजेंसी एएनआई की रिपोर्ट के मुताबिक बुधवार को मुंबई के धारावी में करीब 400 शिवसैनिक बीजेपी में शामिल हो गये।

उद्धव ठाकरे के फैसले से नाराज
बताया जा रहा है कि पार्टी छोड़कर बीजेपी का दामन थामने वाले सभी कार्यकर्ता उद्धव ठाकरे के फैसले से नाराज हैं, दरअसल उद्धव ठाकरे ने अपने धुर विरोधियों एनसीपी और कांग्रेस के साथ मिलकर सरकार बनाई है, इसी बात को लेकर नाराज कार्यकर्ताओं ने पार्टी छोड़ने का फैसला लिया है।

बीजेपी के साथ टूटा गठबंधन
आपको बता दें विधानसभा चुनाव में शिवसेना और बीजेपी ने गठबंधन कर चुनाव लड़ा था, प्रदेश की जनता ने 161 सीटें (बीजेपी-105, शिवसेना-56) देकर स्पष्ट जनादेश दिया, लेकिन चुनाव परिणाम आने के बाद शिवसेना के तेवर बदल गये, शिवसेना बीजेपी से ढाई साल के लिये सीएम की कुर्सी मांगने लगी, जिसके बाद दोनों दलों में बात नहीं बन पाई, और गठबंधन टूट गया।

उद्धव ठाकरे बनें मुख्यमंत्री
गठबंधन टूटने के बाद शिवसेना ने एनसीपी और कांग्रेस के साथ मिलकर सरकार बनाने की कोशिश की, लेकिन फडण्वीस ने नाटकीय तरीके से अजित पवार के साथ मिलकर सरकार बना ली, हालांकि बहुमत ना होने की वजह से ये सरकार चार दिन में ही गिर गई, जिसके बाद शिवसेना ने एनसीपी और कांग्रेस की मदद से सरकार बनाई, उद्धव ठाकरे प्रदेश के नये मुख्यमंत्री बने, लेकिन कई शिवसेना कार्यकर्ता ठाकरे के इस फैसले से नाराज हैं। उनका कहना है कि उद्धव ने सरकार के लिये विचारधारा से समझौता कर लिया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here