Vikas Jai12

विकास ने कई जमीन अवैध रुप से या तो हथियाई था या धौंस दिखाकर कब्जा किया था, कानपुर पुलिस के अनुसार शिवली के शोभन में विकास ने अपने भाई दीप दुबे के नाम करीब 20 बीघा जमीन खरीदी थी।

पुलिस एनकाउंटर में मारे गये कुख्यात अपराधी विकास दुबे ने काली कमाई से करोड़ों का साम्राज्य खड़ा किया था, रंगदारी, जमीनों पर अवैध कब्जा, प्रोटेक्शन मनी तथा हाइवे पर चलने वाले ट्रकों का माल लूटकर करोड़ों की संपत्ति बना ली थी, एक अनुमान के मुताबिक विकास दुबे की कुल संपत्ति करीब 200 करोड़ बताई जा रही है, आइये आपको बताते हैं कि उसने किस-किस धंधे से पैसे कमाये।

सबसे बड़ा हिस्ट्रीशीटर
न्यूज 24 की रिपोर्ट के अनुसार विकास दुबे हाइवे पर ट्रकें लूटकर, बसों से रंगदारी वसूलकर, फैक्ट्रियों से वसूली कर, बिजनेसमैन से रंगदारी लेकर सबसे बड़ा हिस्ट्रीशीटर बन गया था, Vikas Jai जैसे-जैसे विकास दुबे का नाम अपराध की दुनिया में बढा, वैसे-वैसे उसका बैंक बैलेंस भी बढता चला गया, विकास के परिवार वालों के नाम आज करीब ढाई सौ बीघा जमीन है, ये जमीनें चौबेपुर, बिल्हौर, शिवली और बिठूर में है, लखनऊ के इंदिरानगर में कई आलीशान मकान हैं, कल्याणपुर के मकड़ीखेड़ा में कई संपत्तियां बना रखी है, जिसकी कीमत 50 करोड़ के आस-पास आंकी जा रही है।

गाड़ियों का शौकीन
बीते सप्ताह कानपुर के जिस मकान से गोली चलाई गई थी, उस मकान को पुलिस ने जेसीबी से मलबे में तब्दील कर दिया, हालांकि पुलिस अभी भी मलबे की तफ्तीश में लगी है, vikas 57 क्योंकि उसमें कई हैरान करने वाली चीजें सामने आई है, विकास के पास कई लग्जरी गाड़ियां भी थी, जिससे पता चलता है कि वो ऐशो आराम और महंगी चीजों का कितना शौकीन था, हालांकि पुलिसिया कार्रवाई के बाद अब ये गाड़ियां कबाड़ में तब्दील हो चुकी है।

विवादास्पद जमीनें हथियाता था
विकास ने कई जमीन अवैध रुप से या तो हथियाई था या धौंस दिखाकर कब्जा किया था, कानपुर पुलिस के अनुसार शिवली के शोभन में विकास ने अपने भाई दीप दुबे के नाम करीब 20 बीघा जमीन खरीदी थी, Vikas Ujjain इसके साथ ही विकास और उसके भाई के नाम लखनऊ के इंदिरानगर में भी आलीशान मकान है, जिसकी कीमत करीब 5 से 7 करोड़ रुपये आंकी जा रही है। इसके अलावा विकास उसकी पत्नी ऋचा, बच्चों, भाई, पिता, मां और दूसरे रिश्तेदारों के नाम भी कई संपत्तियां और जमीनें है, लोगों की जमीनें हड़पने के अलावा विकास की कमाई का दूसरा बड़ा जरिया विवादास्पद संपत्ति को खरीदना था, जिसका टैक्स वो कभी नहीं भरता था।

फैक्ट्रियों से वसूली
विकास दुबे का ऐसा खौफ था कि कानपुर के आस-पास की लगभग हर फैक्ट्री उसे चढावा पेश करते थे, जीटी रोड के किनारे बसे चौबेपुर इंडस्ट्रियल एरिया में करीब 400 फैक्ट्रिया है, vikas 56 जिनसे सलाना चंदा के नाम पर विकास उगाही करता था। इसके अलावा माल लदे ट्रकों में लूट करवाना विकास के लिये बायें हाथ का खेल था, नेताओं और पुलिस के संरक्षण की वजह से उस तक बात पहुंच भी नहीं पाती थी, साथ ही आलू और तेल के टिनों में वो विकरु गांव के लोगों में बंटवा देता था, यही वजह है कि गांव वाले ने कभी विकास का विरोध नहीं किया।

इन धंधों से भी कमाई
विकास कानपुर के कई बस स्टैंड और मालिकों से रंगदारी वसूलकर भी अपनी तिजोरी भरता था। साथ ही उसकी काली कमाई का एक जरिया टेंडर और लोगों क ठेका दिलाने के कामों से भी होता था, Vikas wife1 इसके साथ ही विवादित जमीनों को खाली कराने के नाम पर भी उसने खूब पैसा कमाया।

Read Also – विकास दुबे की मौत पर SSP कानपुर का बड़ा बयान, ये लोग कर रहे थे काफिले का पीछा