minakshi

इस बीच मनीष गुप्ता की पत्नी मीनाक्षी ने सीएम योगी से बात ना हो पाने पर कहा, मेरी किसी से बात नहीं हुई है, मुख्यमंत्री जी से बिल्कुल नहीं हुई है, वो बहुत बिजी रहते हैं।

यूपी में प्रॉपर्टी डीलर मनीष गुप्ता की मौत का मामला शांत होता नहीं दिख रहा है, कानपुर में मनीष के शव का अंतिम संस्कार कराये जाने पर बवाल है, उनकी पत्नी मीनाक्षी गुप्ता का कहना है कि जब तक सीएम योगी से मुलाकात या बात नहीं हो जाती, तब तक अंतिम संस्कार नहीं करेंगे, समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ता भी हंगामा कर रहे हैं।

मान-मनौव्वल का दौर
वहीं कानपुर पुलिस की ओर से मनीष गुप्ता के शव के अंतिम संस्कार के लिये परिवार से मान-मनौव्वल किया जा रहा है, कानपुर में मृतक के घर पर पुलिस तथा उनके परिजनों में बॉडी उठाने को लेकर कहासुनी भी हुई है, परिजन लिखित आश्वासन और कार्रवाई को लेकर अड़े हैं, वहीं समाजवादी पार्टी कार्यकर्ताओं ने पुलिस-प्रशासन के खिलाफ जमकर नारेबाजी भी की।

सीएम योगी पर भड़की पत्नी
इस बीच मनीष गुप्ता की पत्नी मीनाक्षी ने सीएम योगी से बात ना हो पाने पर कहा, मेरी किसी से बात नहीं हुई है, मुख्यमंत्री जी से बिल्कुल नहीं हुई है, वो बहुत बिजी रहते हैं, ये छोटा-मोटा कांड है, होता रहता है, पुलिस वाले ने किया तो क्या हुई, उनके लिये नॉर्मल है, लेकिन मेरे लिये महत्वपूर्ण है। मीनाक्षी ने कहा कि सीएम साहब से फोन पर बात करने की खबर झूठी है, ना तो उनकी ओर से कोई कॉल आई है, ना मेरी ओर से गई है, मैंने उनकी आवाज अपनी कानों में टीवी के अलावा अब तक नहीं सुनी है, पुलिस वालों ने मेरे पति की हत्या की है, ये पूरी तरह से कत्ल है।

जानिये पूरा मामला
प्रॉपर्टी डीलर मनीष गुप्ता (36 साल) अपने दोस्त अरविंद सिंह तथा प्रदीप के साथ गोरखपुर के रामगढताल थाना क्षेत्र के देवरिया बाइपास रोड स्थित कृष्णा पैलेस के रुम नंबर 512 में ठहरे थे, वो यहां अपने दोस्त गोरखपुर के बढयापार के रहने वाले चंदन सैनी और राणा प्रताप चंद से मिलने आये थे। सोमवार रात 12.30 बजे रामगढताल थाने के प्रभारी जेएन सिंह, सब्जी मंडी चौकी इंचार्ज अक्षय मिश्रा समेत 6 पुलिस वाले उनके कमरे में आये, पहचान पत्र दिखाने को कहा, आईडी रिसेप्शन पर देखने की बात कहने पर पुलिस वालों ने तीनों को थप्पड़ मारना शुरु कर दिया, फिर अरविंद और प्रदीप को लेकर नीचे चले आये। कुछ देर बात जब पुलिस वाले लिफ्ट से मनीष को नीचे घसीटते हुए लाये, तो उनके मुंह और नाक से खून निकल रहा था, जिसके बाद पुलिस वालों ने उन्हें लेकर निजी अस्पताल, फिर बीआरडी मेडिकल कॉलेज गये, जहां उनकी मौत हो गई, मौत के बाद हंगामा होने लगा, जिसके बाद 6 पुलिस वालों को निलंबित कर दिया गया, 3 पर मुकदमा दर्ज किया गया है।

Read Also – डॉक्टर ने महिला सिपाही को नशीला पदार्थ देकर किया गंदा काम, देर रात गिरफ्तार