samad2

अब्दुल समद सैफी ने ये भी दावा किया, कि मुझसे जय श्रीराम के नारे लगवाये, पानी मांगा, तो मुझे पेशाब पीने को कहा।

गाजियाबाद के लोनी इलाके में अब्दुल समद सैफी पर हुए हमले के बाद सियासी बयानबाजी तेज हो चुकी है, इस बीच समद सैफी का एक और बयान सामने आया है, जिसमें वो नारेबाजी, जान से मारने की धमकी, मारपीट और पेशाब पिलाने तक की बात कह रहे हैं, समद ने ताबीज वाली बात को भी झूठ बताया है।

क्या कहा
ये बात बुधवार रात समद सैफी ने अपने घर बुलंदशहर के अनूपशहर में पत्रकारों से कही, वीडियो में उनके साथ मौजूद लोग पुलिस के एक्शन पर सवाल खड़े कर रहे हैं, अब्दुल समद सैफी ने कहा कि मेरी कनपटी पर पिस्तौल लगाई गई, 4 लोग थे, डंडे और बेल्ट से मुझे बहुत मारा, मैं उन्हें नहीं जानता था। समद सैफी ने कहा कि मुझ पर झूठा इल्जाम लगाया जा रहा है, मैं नहीं जानता कि मारने वाला की मुसलमान था, ताबीज की बात झूठी है, मैं ताबीज का कोई काम नहीं करता, मुझ पर झूठा इल्जाम लगाया जा रहा है, ऐसा इल्जाम कोई भी लगा सकता है, मैं तो मदरसे में रहता हूं।

नारे लगवाये
अब्दुल समद सैफी ने ये भी दावा किया, कि मुझसे जय श्रीराम के नारे लगवाये, पानी मांगा, तो मुझे पेशाब पीने को कहा, सैफी के साथ खड़े शख्स ने कहा कि इनको मारने के लिये दो बार तमंचा चलाया गया, लेकिन फायर मिस हो गया, इसके बाद भी पुलिस ने 307 में एफआईआर क्यों नहीं की।

बयान बदल चुका है
आपको बता दें कि इससे पहले बुजुर्ग समद सैफी ने कहा था कि उन्हें पुलिस ने सहयोग किया था, हालांकि अब उनका बयान बदल चुका है। मालूम हो कि गाजियाबाद में बुजुर्ग समद सैफी की पिटाई और जबरन दाढी काटने के आरोपों को लेकर राजनीतिक घमासान मचा हुआ है, मामले में पुलिस सांप्रदायिक पहलू से इंकार कर रही है, लेकिन विपक्ष इसे लेकर हमलावर है, पुलिस का कहना है कि अब्दुल समद की पिटाई करने वाले उसके द्वारा बेचे गये ताबीज को लेकर नाखुश थे।

Read Also – महिला डॉक्टर से पहले प्यार, फिर की शादी, जानिये कौन है प्रशांत किशोर की पत्नी