पुलिस के हत्थे चढा विकास दूबे का इनामी साथी, बताया शूटआउट की पूरी कहानी, पुलिस वाले भी घेरे में

0
1144
daya shankar

दयाशंकर ने बताया कि उस समय विकास दूबे के घर में एक ही असलहा था, जो उसके नाम पर है, विकास ने उसी हथियार से गोली चलाई थी।

चौबेपुर थाना क्षेत्र के गांव विकरु में शुक्रवार रात हुई मुठभेड़ में शामिल कुख्यात गैंगस्टर विकास दूबे का नौकर दयाशंकर अग्निहोत्री को पुलिस ने कल्याणपुर थाना क्षेत्र में मुठभेड़ के बाद गिरफ्तार कर लिया है, भागने के क्रम में दयाशंकर को पैर में गोली लगी है, इलाज के लिये उसे जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है, पूछताछ में दयाशंकर ने कई सनसनीखेज खुलासे किये हैं।

पुलिस ने की मुखबिरी
दयाशंकर अग्निहोत्री ने बताया कि पुलिस की ओर से दबिश की जानकारी विकास दूबे को दी गई थी, जिसके बाद तुरंत विकास ने अपने हथियारबंद साथियों को फोन कर बुला लिया, वो पूरी तैयारी के साथ अपने घर में बैठा था, जैसे ही पुलिस टीम आई, उसने तुरंत फायरिंग शुरु कर दी, जिसमें एक डीएसपी समेत 8 पुलिस वाले शहीद हो गये।

दयाशंकर पर भी इनाम घोषित
दयाशंकर ने बताया कि उस समय विकास दूबे के घर में एक ही असलहा था, जो उसके नाम पर है, विकास ने उसी हथियार से गोली चलाई थी, विकास दूबे के साथ फरार जिन 18 लोगों पर इनाम घोषित किया है, उसमें दयाशंकर अग्निहोत्री का नाम पांचवें नंबर पर है, उस पर पुलिस ने 25 हजार रुपये का इनाम घोषित कर रखा है। दयाशंकर ने कहा कि उसने गोली नहीं चलाई, वो घटना के समय कमरे में बंद कर दिया गया था, हालांकि वो ये नहीं बता सका कि कितने लोग इस गोलीबारी में शामिल थे।

पुलिस की भूमिका संदिग्ध
विकरु कांड के बाद से जारी तफ्तीश में एक बात तो साफ हो गई है कि मुखबिरी पुलिस विभाग की ओर से ही की गई थी, इससे पहले ये बात सामने आई थी कि दबिश से पहले गांव की बिजली भी काटी गई थी, Vikas home इसके लिये भी चौबेपुर थाने से ही फोन किया गया था, फिलहाल मामले की जांच जारी है, हालांकि संदेह के घेरे में आये एसओ विनय तिवारी को तत्काल प्रभाव से सस्पेंड कर दिया गया है।

Read Also – योगी राज में बदमाशों की खैर नही! विकास का घर ढहाया, ईनाम की घोषणा, पुलिस वालों के खिलाफ भी एक्शन