barabanki

ये पूरा मामला बाराबंकी के रामनगर तहसील में मल्लापुर गांव का है, यहां के रहने वाले चंद्रराम वर्मा के बेटे की शादी दो साल पहले 2019 में असम की रहने वाली युवती के साथ हुआ था।

राजधानी लखनऊ से सटे बाराबंकी में एक सन्न कर देने वाला मामला सामने आया है, दरअसल जिस ससुर को पिता का दर्जा दिया जाता है, उसी ने अपनी बेटी समान बहू को रुपयों के लालच में बेचने की कोशिश की, बेटे को जब इस बात की जानकारी मिली, तो उससे तो होश उड़ गये, पुलिस ने मामले में मुकदमा दर्ज कर कार्रवाई शुरु कर दी है।

कहां का है मामला
ये पूरा मामला बाराबंकी के रामनगर तहसील में मल्लापुर गांव का है, यहां के रहने वाले चंद्रराम वर्मा के बेटे की शादी दो साल पहले 2019 में असम की रहने वाली युवती के साथ हुआ था, woman2 प्रिंस ने लव मैरिज की है, दोनों एक ऑनलाइन ऐप्प के माध्यम से मिले, शादी के बाद दोनों खुशहाल जीवन जी रहे थे, बताया गया है कि प्रिंस अपनी पत्नी के साथ गाजियाबाद में रहने के लिये चला गया, जहां वो टैक्सी चलाने का काम करता था।

लालची ससुर
पैसों के लालच में अंधे ससुर चंद्रराम ने अपने बेटे प्रिंस की पत्नी को 80 हजार रुपये में बेचने की साजिश रची, उसने बहू को 4 जून को घर बुला लिया, उधर साजिश के तहत रामू गौतम ने गुजरात के युवक साहिल और उसके परिजनों को बाराबंकी बुलाया, जिसके बाद पूरा सौदा तय हो गया। women दूसरी ओर जब प्रिंस को अपने जीजा से इस बारे में जानकारी मिली, तो वो 5 जून को घर वापस आ गया, घर पर ना तो पत्नी थी और ना ही पिता का कोई अता-पता था, जिसके बाद तुरंत वो थाने पहुंचा और पिता के खिलाफ लिखित शिकायत दी।

मानव तस्करी का मामला
एएसपी अवधेश सिंह के निर्देश पर हरकत में आई महिला थाना प्रभारी शकुंतला उपाध्याय ने पुलिस टीम के साथ रेलवे स्टेशन के बाहर से महिला को बरामद कर शादी करने आये युवक समेत 8 लोगों को गिरफ्तार कर लिया है। woman 2 बहू को उससे ससुर ने ये कहकर भेजा था कि वो लोग उसे गाजियाबाद में पति प्रिंस के पास छोड़ देंगे, एएसपी ने कहा कि ये मामला मानव तस्करी का है, इसमें फरार चंद्रराम और रामू गौतम की तलाश की जा रही है, जल्द ही दोनों को गिरफ्तार किया जाएगा।

Read Also – विराट कोहली की ‘दीवानी’ है पाकिस्तानी क्रिकेटर की पत्नी, भारत से खास रिश्ता