मौत से पहले RSS से जुड़ी संस्था को अमर सिंह ने दान किया था करोड़ों की संपत्ति, बताई थी ये वजह

0
33
amar singh

साल 2018 में अमर सिंह ने इस बात की पुष्टि की थी, उन्होने कहा था कि आरएसएस बड़ी संस्था है, उसे कुछ दान देना बहुत छोटी बात होगी।

एक जमाने में समाजवादी पार्टी के कद्दावर नेता रहे राज्यसभा सांसद अमर सिंह का निधन हो गया है, शनिवार को सिंगापुर के एक अस्पताल में उन्होने आखिरी सांस ली, अमर सिंह को भारतीय राजनीति में कई कारणों से याद किया जाएगा, 2000 के पहले दशक में भारतीय राजनीति अमर सिंह के इर्द-गिर्द घूमा करती थी, पिछले कुछ महीनों से वो स्वास्थ्य परेशानियों से जूझ रहे थे, हाल ही में उन्होने वीडियो ट्वीट कर कहा था टाइगर जिंदा है, अमर सिंह ने तब कहा ता कि वो जिंदा हैं और बीमारियों से जूझ रहे हैं, दरअसल कुछ लोग उनकी मौत की झूठी खबर सोशल मीडिया पर फैला रहे थे, तब अमर ने कहा था कि उनकी तबीयत इससे पहले भी कई बार बिगड़ी, लेकिन हर बार वो मौत के मुंह से लड़कर वापस आये, लेकिन इस बार वो वापस नहीं लौट सके।

करोड़ों की संपत्ति दान
राज्यसभा सांसद अमर सिंह ने अपने आखिरी दिनों में कई अच्छे काम किये, जिसका जिक्र किया जाना जरुरी है, कुछ साल पहले ही अमर सिंह ने आजमगढ स्थित अपनी पैतृक संपत्ति आरएसएस से जुड़ी संस्था सेवा भारती को दान कर दिया था, उन्होने अपने स्वर्गीय पिता की याद में उनकी संपत्ति सेवा भारती को दिया था, ताकि वहां के गरीब बच्चों को शिक्षा मिल सके, दान की गई संपत्ति की कीमत करीब 15 करोड़ रुपये बताई जा रही थी।

समाज की सेवा की कोशिश
साल 2018 में अमर सिंह ने इस बात की पुष्टि की थी, उन्होने कहा था कि आरएसएस बड़ी संस्था है, उसे कुछ दान देना बहुत छोटी बात होगी, amar singh मेरी स्वर्गीय पिता जी की याद में मेरी पैतृक संपत्ति को देकर मैंने समाज की सेवा की कोशिश की है, ताकि वहां को कुछ जरुरतमंदों की मदद हो सके।

आखिरी दिनों में बीजेपी के करीब
अमर सिंह के इस फैसले पर कुछ लोगों ने कहा था कि वो बीजेपी में शामिल होना चाहते हैं, इसी वजह से संघ से नजदीकी बना रहे हैं, उन्हें करीब से जानने वालों का कहना था कि amar mulayam अमर सिंह का पूरा राजनीतिक जीवन संघ के उसूलों के खिलाफ रहा है, वो संघ को सांप्रदायिक बताते थे, लेकिन आखिरी के कुछ सालों में आरएसएस के प्रति उनका नजरिया बदला।

Read Also – फ्लाइट में हुई थी अमर सिंह-मुलायम सिंह यादव की पहली मुलाकात, ऐसे बने थे सपा के सूत्रधार