कांग्रेस की एक और नेता सिंधिया की राह पर, पार्टी को हो सकता है बड़ा नुकसान

0
469

अदिति सिंह ने अभी तक इस बारे में कोई आधिकारिक बयान तो नहीं दी है, लेकिन बीते दिनों उन्होने जो टिप्पणी की थी, उससे कांग्रेस हाईकमान काफी नाराज हैं।

हाल ही में मध्य प्रदेश में ज्योतिरादित्य सिंधिया ने बीजेपी की सत्ता में वापसी कराई, कहा जाता है कि अनदेखी से नाराज सिंधिया ने सबसे पहले सोशल मीडिया हैंडल से कांग्रेस का परिचय हटाया था, इसके बाद जो कुछ भी हुआ उसे पूरे देश ने देखा था, शिवराज राज चौहान चौथी बार प्रदेश के मुख्यमंत्री बनें और सिंधिया बीजेपी के बड़े नेता हो गये, उनके साथ 22 विधायकों ने भी कांग्रेस छोड़ा था, अब लगता है कि यूपी में भी कांग्रेस के गढ में सेंध लगने वाली है। दरअसल रायबरेली सदर से विधायक अदिति सिंह ने अपने ट्विटर हैंडल से कांग्रेस का नामो-निशान मिटा दिया है।

कांग्रेस हाईकमान नाराज
हालांकि अदिति सिंह ने अभी तक इस बारे में कोई आधिकारिक बयान तो नहीं दी है, लेकिन बीते दिनों उन्होने जो टिप्पणी की थी, उससे कांग्रेस हाईकमान काफी नाराज हैं। कहा जा रहा है कि उनके खिलाफ एक्शन लेने की तैयारी है, इसलिये उन्होने भी पहले ही पूरी तैयारी कर ली है। एक लीडिंग वेबसाइट से बात करते हुए अदिति ने कहा कि मुझे भी मीडिया के माध्यम से ही पता चला है कि पार्टी ने मुझे निलंबित कर दिया है, लेकिन अभी तक मुझे कोई फोन के जरिये जानकारी या नोटिस नहीं मिला है।

हमेशा सच बोला है
अदिति सिंह ने कहा कि मैं अभी तक जनता की सेवा करती आई हूं, जिसे भी मेरा ट्रैक रिकॉर्ड चेक करना है, वो सीधे रायबरेली की जनता से जाकर बात कर ले, मैं एक छोटे से विधानसभा की विधायक हूं, खबरों में बने रहने का मेरा कोई मकसद नहीं है, मैंने हमेशा सच बोला है और अपने क्षेत्र की भलाई के लिये काम किया है। अदिति ने कहा कि अगर मैं पार्टी विरोधी हूं, तो कैसे इकलौती सीट जीती है, खासतौर से लोकसभा सीट कैसे जीती है, जो लोग मुझ पर पार्टी विरोधी होने का आरोप लगा रहे हैं, वो खुद अपने गिरेबां में झांक कर देखें, सोनिया गांधी मेरे क्षेत्र से जीतकर संसद पहुंची हैं, सबसे ज्यादा वोट उन्हें मेरे विधानसभा क्षेत्र में मिले हैं, किसी अन्य विधानसभा में इतने वोट नहीं मिले हैं, आंकड़ा निकालकर देख लीजिए।

क्या कहा था अदिति ने
आपको बता दें कि हाल ही में अदिति सिंह ने पार्टी लाइन से बाहर निकलकर बयान दिया था, उन्होने कांग्रेस के 1000 बसों पर कहा था कि ये निम्न स्तर की राजनीति है, इस मुश्किल काल में सरकार के साथ खड़े होना चाहिये, इसके साथ ही अदिति ने सीएम योगी की भी खुलकर तारीफ की थी, जिसके बाद माना जा रहा था कि अदिति के खिलाफ एक्शन लिया जा सकता है।