देवभूमिः स्कूल में नहीं थी टीचर तो पत्नी से दिलवाई मुफ्त शिक्षा, अब IAS मंगेश घिल्डियाल को आया PMO से बुलावा

0
369
mangesh ghildiyal ias

देवभूमि उत्तराखंड के काबिल अफसरों में शामिल IAS मंगेश घिल्डियाल को अब प्रधानमंत्री कार्यालय (PMO) में अहम जिम्मेदारी मिली है. उन्हें कैबिनेट की नियुक्ति समिति (Appointments Committee of Cabinet) ने पीएमओ में अंडर सेक्रेटरी पद पर नियुक्त किया है. मंगेश घिल्डियाल देवभूमि की एक ऐसी शख्सियत हैं जिन्होंने अपने काम को लेकर खूब सुर्खियां बटोरी हैं. सबसे ज्यादा तो उनका भेष बदलकर औचक निरीक्षण चर्चाओं में रहा है. जी हां, जब वह रुद्रप्रयाग के डीएम थे तब वह अक्सर भेष बदलकर निरीक्षण पर जाते थे. जिससे लोग हैरान रह जाते थे. इस स्टाइल से भ्रष्टाचारियों की पोल भी खुल जाती थी और लोग हैरान रह जाते थे. जिले के लोग उन्हें खूब प्यार करते थे.

पत्नी से दिलवाई क्लास
सिर्फ IAS मंगेश घिल्डियाल ही नहीं बल्कि उनकी पत्नी भी लोगों की मदद में आगे रहती हैं और निःस्वार्थ भाव से मदद करती हैं. बात तब की है जब वह रुद्रप्रयार के राजकीय गर्ल्स इंटर कॉलेज में चेकिंग पर गए थे. जहां उन्हें पता चला कि स्कूल में साइंस का कोई टीचर नहीं है. mangesh ghildiyal ias wife usha suyal तो उन्होंने घर आकर अपनी पत्नी ऊषा को बताया और कहा कि जब तक स्कूल में कोई साइंस का टीचर नहीं आ जाता तब तक वह बच्चियों को पढ़ाएं. आपको जानकर हैरानी हो सकती है लेकिन सच है कि, उनकी पत्नी ने स्कूल में पढ़ाने के लिए कोई पैसा नहीं लिया बल्कि बच्चियों को मुफ्त शिक्षा दी.

PM हुए मुरीद
पहाड़ी मिट्टी में पले-बढ़े आईएएस अधिकारी मंगेश घिल्डियाल की तैनाती जहां भी हुई उन्होंने अपने काम से लोगों का खूब दिल जीता. लोगों की मदद करनी हो या कोई कार्य. मंगेश घिल्डियाल हमेशा आगे रहते हैं. सबसे अच्छी बात ये है कि, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की mangesh ghildiyal ias with narendra modi गुड बुक में भी मंगेश घिल्डियाल का नाम शामिल है और वह खुलकर उनकी तारीफ भी कर चुके हैं. जी हां, जब मंगेश घिल्डियाल ने पीएम मोदी के ड्रीम प्रोजेक्ट केदारनाथ के पुनर्निमाण प्रोजेक्ट को पूरा किया तो पीएम भी उनके काम की तारीफ करने से खुद को रोक नहीं पाए.

PMO में जिम्मेदारी
जनता के लिए 24 घंटे उपस्थित रहने वाले आईएएस मंगेश घिल्डियाल ने कम समय में ऊंचाईयां हासिल की हैं और उनके अच्छे कार्यों की वजह से ही उत्तराखंड आज उन पर गर्व कर रहा है. पीएम की गुड बुक में शामिल आईएएस मंगेश को अब पीएमओ से बुलावा आया है. जिस पर उनका कहना है कि, उन्हें जो भी जिम्मेदारी दी जाएगी उसे वह पूरी ईमानदारी और मेहनत से निभाएंगे. वह पीएमओ के भरोसे पर खरा उतरने का पूरा प्रयास करेंगे. वहीं उत्तराखंड को एक उम्मीद है कि जब इतना काबिल अफसर पीएमओ जाएगा तो यकीनन उत्तराखंड को भी इससे लाभ मिलेगा और स्थितियों में सुधार आएगा.

Read Also: देवभूमि का अमर जवान, 72 घंटे में 300 चीनी सैनिकों को दिया था मुंहतोड़ जवाब, आज भी ड्यूटी पर है तैनात