अब देवभूमि में नहीं होगा पलायन! सरकार का बच्चों की शिक्षा के लिए बड़ा ऐलान, अभिभावकों को जगी उम्मीद

0
292
English Medium schools in every block of Uttarakhand

कोरोना वायरस की वजह से देवभूमि उत्तराखंड के गांवों में एक बार फिर से सालों पुरानी रौनक लौटी है. जो लोग सुख-सुविधाओं के कारण प्रदेश से पलायन कर चुके थे अब वही लोग वापस अपने गांव अपने पहाड़ आना चाहते हैं. लोगों का कहना है कि, अब वह अपने पहाड़ को छोड़कर नहीं जाएंगे यहीं रहेंगे और यहीं अपने बच्चों को शिक्षा दिलवाएंगे. पर सवाल ये कि, सिर्फ बच्चों की शिक्षा और सुख-सुविधाओं के लिए प्रदेश के सैकड़ों गांव खाली हो गए क्योंकि, इस दिशा में प्रदेश सरकार ने कोई ठोस कदम उठाए ही नहीं और लोगों को मजबूरी में पलायन करना पड़ा.

देवभूमि के लिए अच्छी खबर
पर अब प्रदेश सरकार ने देवभूमि को एक अच्छी खबर सुनाई है. जिसे जानने के बाद वाकई हर नागरिक को सुकून मिलेगा. दरअल उत्तराखंड शिक्षा विभाग (Uttarakhand Education Department) ने बच्चों के लिए बड़ा फैसला करते हुए ऐलान किया है कि अब प्रदेश के हर ब्लॉक में 2 इंग्लिश मीडियम स्कूल खोले जाएंगे.English medium school uttrakhand इस बारे में खुद शिक्षा मंत्री अरविंद पांडे (Arvind Pandey) ने भरोसा दिलाया है और अधिकारियों को भी इस दिशा में काम करने के आदेश जारी कर दिए हैं.

अभिभावकों को जगी उम्मीद
शिक्षा विभाग की तरफ से इस बड़े फैसले का ऐलान होने के बाद अब अभिभावकों को एक उम्मीद की किरण दिखाई दी है. क्योंकि, प्रदेश के ऐसे कई परिवार हैं जो सिर्फ बच्चों को अच्छी शिक्षा दिलाने के लिए शहरों की तरफ रुख कर चुके थे.uttrakhand pahad उनका कहना था कि, पहाड़ में न तो अच्छी शिक्षा है और न ही अस्पताल ऐसे में बच्चों को अच्छी शिक्षा कैसे दिलाई जाए. पर अब शायद ही कोई परिवार पलायन करने के बारे में सोचेगा.

12वीं तक लगेगी क्लास
शिक्षा मंत्री अरविंद पांडे ने अधिकारियों को आदेश जारी करते हुए ये भी कहा कि, इंग्लिश मीडियम स्कूलों में 1 से 12वीं तक की क्लास लगेगी और सीबीएससी बोर्ड की तर्ज पर ही स्कूल संचालित किए जाएंगे. english medium school uttrakhand (2)उन्होंने कहा कि, इस बारे में काफी लंबे समय से विचार किया जा रहा था लेकिन अब जब ये योजना धरातल पर आ रही है तो इससे बच्चों का इंग्लिश स्कूल में पढ़ने का सपना भी साकार होगा और अब शायद ही प्रदेश का कोई गांव खाली होगा.

ये भी पढ़ेंः- उत्तराखंड: माता का रहस्यमय मंदिर, 3 बार बदलती है अपना रूप, खुद ईश्वरीय आवाज ने कराया था स्थापित