keshav

सिविल सर्विसेज से पहले केशव गोयल ने चार्टड अकाउंटेंट यानी सीए की तैयारी की थी, खास बात ये है कि इस परीक्षा में उन्होने 18वीं रैंक हासिल की थी।

हर किसी को मुक्कम्मल जहां नहीं मिलता, किसी को जमीं, किसी को आसमां नहीं मिलता, ये कहावत आमतौर पर जिंदगी में उतार-चढाव वाले लोगों सके लिये कही जाती है, लेकिन आज हम आपको एक ऐसे शख्स की सक्सेस स्टोरी के बारे में बताते हैं, जिन्होने जमीं से लेकर आसमां तक सब हासिल किया है। जी हां, हम बात कर रहे हैं दिल्ली के सीए केशव गोयल की, जिन्होने लाखों रुपये की विदेशी नौकरी ठुकराकर पहले ही प्रयास में 214वीं रैंक के साथ यूपीएसी परीक्षा पास की, और आईएएस ऑफिसर बने, चलिये जानते हैं केशव गोयल का आईएएस बनने तक का सफर और उसकी कहानी।

आईएएस से पहले सीए
सिविल सर्विसेज से पहले केशव गोयल ने चार्टड अकाउंटेंट यानी सीए की तैयारी की थी, खास बात ये है कि इस परीक्षा में उन्होने 18वीं रैंक हासिल की थी, वो सीए बन भी गये थे, लेकिन सीए का ऑप्शन केशव ने सिर्फ करियर के तौर पर चुना था, उन्होने एक इंटरव्यू में बताया कि कॉमर्स के स्टूडेंट्स के लिये सीए से बेहतर कोई विकल्प नहीं होता है, इसलिये उन्होने सीए किया था।

तीन महीने आत्ममंथन
उन्होने बताया कि सीए करने के बाद तीन महीने आत्ममंथन किया, और समझा कि वो जिंदगी भर ये काम बिल्कुल नहीं कर सकते, इसके बाद उन्होने दूसरे ऑप्शन खोजने शुरु किये, जिसका जवाब उन्हें यूपीएससी के तौर पर मिला, तब केशव ने 2017 में यूपीएससी तैयारी शुरु की।

सबसे जरुरी आत्मप्रेरणा
केशव गोयल ने इंटरव्यू के दौरान ही कहा था कि यूपीएससी क्लियर करने के लिये आत्मप्रेरणा बहुत जरुरी है, यही कारण रहा कि पीटी से पहले उन्होने कोई भी कोचिंग नहीं ली, लेकिन अंदर आत्मविश्वास बहुत था, यही कारण रहा कि उन्होने पहली ही कोशिश में यूपीएससी परीक्षा क्लियर किया, 214वां रैंक के साथ वो आईएएस ऑफिसर बने, कुछ ही लोग जानते हैं कि सीए बनने के बाद केशव को अमेरिका और जापान से लाखों रुपये पैकेज के जॉब ऑफर हुई थी, लेकिन उन्होने देश के बड़े सपने को पूरा करने के लिये ये विदेशी नौकरी ठुकरा दी थी।

Read Also – सक्सेस स्टोरी- कभी खुद करते थे नौकरी, आज हैं अरबों की कंपनी HCL के मालिक