अमित शाह ने सिंधिया को सौंपी बड़ी जिम्मेदारी, कमलनाथ सरकार का काउंटडाउन शुरु

0
3198

एमपी में राज्यपाल लालजी टंडन ने 16 मार्च को ही कमलनाथ सरकार को फ्लोर टेस्ट कराने को कहा था, लेकिन विधानसभा स्पीकर ने इसे टाल दिया है।

एमपी की सियासत हर घंटे नया रंग ले रही है, ज्योतिरादित्य सिंधिया के बीजेपी में शामिल होने के बाद से ही कमलनाथ सरकार पर संकट के बादल मंडरा रहे हैं, बीजेपी ने सिंधिया को कांग्रेस के बागियों को साधने की जिम्मेदारी सौंपी है, कहा जा रहा है कि सिंधिया के इशारे पर ही 22 विधायकों ने विधानसभा अध्यक्ष को इस्तीफा भेजा है, हालांकि अब तक इनका इस्तीफा स्वीकार नहीं किया गया है, विधानसभा स्पीकर ने कहा कि वो सभी से फेस टू फेस मिलेंगे, इसके बाद इस्तीफा स्वीकार करेंगे।

फ्लोर टेस्ट टाला गया
एमपी में राज्यपाल लालजी टंडन ने 16 मार्च को ही कमलनाथ सरकार को फ्लोर टेस्ट कराने को कहा था, लेकिन विधानसभा स्पीकर ने इसे टाल दिया है,  जिसके खिलाफ बीजेपी सुप्रीम कोर्ट पहुंची है, बीजेपी का कहना है कि सरकार के पास बहुमत नहीं है, इसलिये वो जोड़-तोड़ में लगी हुई है, जल्द से जल्द फ्लोर टेस्ट कराया जाए।

16 विधायक किडनैप
बीते दिन कमलनाथ सरकार के मंत्री पीसी शर्मा ने कहा कि बजट सत्र पर कोरोना वायरस का कोई असर नहीं पड़ेगा, हम फ्लोर टेस्ट के लिये तैयार हैं, फ्लोर टेस्ट का फैसला विधानसभा अध्यक्ष लेंगे, मंत्री ने ये भी बताया कि मुख्यमंत्री कमलनाथ ने केन्द्रीय गृहमंत्री अमित शाह को चिट्ठी लिखी है, जो अपने आप में एफआईआर है, मैं राज्यपाल से अपील करता हूं, कि बंधक विधायकों को छुड़ाया जाए, उन्होने ये भी कहा कि अभी भी 16 विधायक किडनैप हैं।

अल्पमत में है सरकार
मालूम हो कि इससे पहले सत्ताधारी कांग्रेस के कुछ विधायकों को गुरुग्राम के एक लग्जरी होटल में ठहराया गया था, जिस पर दिग्विजय सिंह ने आरोप लगाया था कि बीजेपी उनके विधायकों को तोड़ने की कोशिश कर रही है, उन्होने हॉर्स ट्रेंडिग का आरोप लगाया था, इसके बाद सिंधिया बीजेपी में शामिल हो गये, जिसके बाद पूरे समीकरण ही बदल गये, बीजेपी कमलनाथ सरकार के अल्पमत में होने का आरोप लगा रही है, और बहुमत परीक्षण कराने को कह रही है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here