nirbhaya-case-victim

नई दिल्लीः निर्भया केस (Nirbhaya case) के दोषी पवन गुप्ता की क्यूरेटिव याचिका को पटियाला हाउस कोर्ट (patiala house court) ने खारिज कर दिया है. साथ ही राष्ट्रपति की तरफ से भी दोषी पवन और दोषी अक्षय की दूसरी दया याचिका को भी खारिज कर दिया गया है. जिसके बाद अब दोषियों को 20 मार्च की सुबह 5.30 बजे फांसी पर लटकाया दिया जाएगा. क्योंकि, दोषियों की याचिकाएं कोर्ट और राष्ट्रपति के पास से खारिज हो चुकी हैं ऐसे में अब फांसी की सजा पर किसी भी प्रकार की अड़चन नजर नहीं आ रही है.

निर्भया की वकील क्या बोली?
कोर्ट की तरफ से फांसी की सजा को रोकने की मांग किए जाने वाली याचिका के खारिज होने के बाद निर्भया की वकील सीमा कुशवाहा ने कहा कि, मुझे भरोसा है कि 20 मार्च की सुबह तय समय पर ही आरोपियों को फांसी दे दी जाएगी. वहीं निर्भया के परिवार को भी बेसब्री से इतंजार है कि, दोषियों को अब फांसी दे दी जाए क्योंकि, इससे पहले दोषियों के डेथ वारंट को रद्द किया जा चुका है. पर अब ऐसा कुछ भी नजर नहीं आ रहा है जिससे फांसी में अड़चन आएगी.

मेरठ का पवन जल्लाद देगा फांसी
निर्भया के दोषियों को सुबह 5.30 बजे मेरठ का पवन जल्लाद फांसी देगा. जिसके लिए डमी प्रैक्टिस कर ली गई है. जिस रस्सी से अभ्यास किया गया है अब उसी रस्सी से चारों दोषियों को शुक्रवार की सुबह फांसी दी जाएगी. फांसी दिल्ली के तिहाड़ जेल में मंडोली जेल के असिस्टेंट सुप्रीटेंडेंट दीपक शर्मा की मौजूदगी में होगी. बता दें, केस के चारों दोषियों को जेल नंबर 3 में रखा गया है और यहीं पर फांसी भी होगी.

क्या था मामला?

गौरतलब है कि, राजधानी दिल्ली की सर्दभरी रात 16 दिसंबर 2012 को निर्भया का चलती बस में सामूहिक बलात्कार किया गया था. जिसकी वजह से घटना के 15 दिन बाद निर्भया की मौत हो गई थी. इसके बाद पूरे देश में आरोपियों को कड़ी से कड़ी सजा दिलाने के लिए प्रदर्शन किए गए थे. पर अब तक दोषियों को सजा नहीं मिल सकी. इस दौरान कई लोगों ने देश की कानून-व्यवस्था भी सवाल उठाए तो किसी ने आरोपियों के पक्ष में बयान दिए. पर अब पूरे देश को शुक्रवार का इंतजार है जब दोषियों को फांसी मिलेगी और निर्भया को इंसाफ.

ये भी पढ़ेंः- निर्भया केस- दोषियों की क्या है आखिरी इच्छा? किससे करना चाहता है मुलाकात?

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here