ज्योतिरादित्य के बीजेपी में आने से बुआ वसुंधरा को हो सकता है नुकसान, ये है पूरा गणित

0
2820

2018 राजस्थान विधानसभा चुनाव में मिली हार के बाद वसुंधरा राजे सिंधिया इन दिनों साइडलाइन चल रही हैं।

ज्योतिरादित्य सिंधिया बीजेपी में शामिल हो चुके हैं, जिसके बाद उनकी दोनों बुआ वसुंधरा और यशोधरा ने खुशी जाहिर की है, उन्होने कहा कि राजमाता विजयाराजे सिंधिया का आज सपना पूरा हुआ, जो काम माधव राव सिंधिया नहीं कर पाये, भतीजे ने कर दिखाया, राजस्थान की पूर्व सीएम वसुंधरा ने कहा कि विजया राजे सिंधिया की विरासत को ज्योतिरादित्य आगे बढाएंगे, मैं उनके फैसले का निजी और राजनैतिक तौर पर स्वागत करती हूं, हालांकि सियासी जानकारों के मुताबिक सिंधिया के बीजे में शामिल होने से वसुंधरा को निजी तौर पर नुकसान उठाना पड़ सकता है।

क्या है सियासी नफा नुकसना
दरअसल 2018 राजस्थान विधानसभा चुनाव में मिली हार के बाद वसुंधरा राजे सिंधिया इन दिनों साइडलाइन चल रही हैं, राजनीतिक जानकारों के मुताबिक अब ज्योतिरादित्य सिंधिया के बीजेपी में आने से उनकी वापसी और ज्यादा मुश्किल हो जाएगी।

मोदी कैबिनेट में जगह
मालूम हो कि सिंधिया को बीजेपी में लाने के लिये बड़ी डील की गई है, कहा जा रहा है कि उन्हें राज्यसभा के साथ मोदी सरकार में मंत्री पद भी ऑफर किया गया है, दूसरी ओर वसुंधरा अपने बेटे झालावाड़ सांसद दुष्यंत के लिये भी मोदी सरकार में मंत्री पद की कोशिशों में जुटी हुई है, लेकिन अब सिंधिया के आ जाने के बाद दुष्यंत को मंत्री पद मिलता नहीं दिख रहा है, क्योंकि संघ और बीजेपी के कुछ बड़े नेता इस बात का विरोध कर सकते हैं कि एक ही परिवार में दो-दो मंत्री पद ठीक नहीं है।

मोदी-शाह के तनावपूर्ण रिश्ते
मालूम हो कि वसुंधरा राजे का मोदी-शाह के साथ संबंध कुछ खास नहीं है, 2018 विधानसभा चुनाव के दौरान भी वसुंधरा और अमित शाह के बीच चुनाव की रणनीति को लेकर कुछ तनाव की खबरें आई थी, अमित शाह गजेन्द्र सिंह शेखावत को प्रदेश बीजेपी की कमान देना चाहते थे, लेकिन वसुंधरा इसके लिये राजी नहीं थी, जिसके बाद दोनों में मनमुटाव हो गया था, हालांकि विधानसभा चुनाव में हार के बाद से वसुंधरा के इच्छा के खिलाफ राजस्थान बीजेपी में प्रमुख पदों पर उनके विरोधी नेताओं की नियुक्ति हो रही है, जिसके बाद कहा जा रहा है कि उन्हें नजरअंदाज किया जा रहा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here