चीन से तनाव के बीच भारत के दोस्त आये आगे, मोदी की सेना को मिलेगा ‘ब्रह्मास्त्र’

0
311
Modi Trump putin

चीन के साथ तनाव के बाद इजरायल एक बार फिर से भारत के डिफेंस सिस्टम को मजबूत करने के लिये तैयार है, इसे लद्दाख में तैनात किया जाएगा।

इजरायल ने करगिल युद्ध के दौरान भी भारत को तेजी से मारक हथियार उपलब्ध कराये थे, अब एक बार फिर से चीन के सीमा पर तनाव है, तो इजरायल अपने मित्र भारत को ऐसे ही मारक हथियार देने वाला है, जिसका जवाब पड़ोसी चीन के पास नहीं होगा, रुस ने भी एस-400 की जल्द आपूर्ति का वादा किया है। गलवान घाटीन में चीन के तनातनी के बाद भारतीय थल सेना और वायुसेना ने साथ में युद्ध अभ्यास किया, जिसमें सुखोई और चिनूक हेलीकॉप्टर को भी शामिल किया गया, बताया जा रहा है कि इस युद्ध अभ्यास का मकसद दोनों सेनाओं के बीच ताममेल बढाना है, सेना को किसी भी स्थिति के लिये तैयार करने के लिये कहा जा रहा है।

फ्रांस से आने वाला है राफेल
फ्रांस के साथ समझौते के तहत भारत को 36 राफेल जेट विमान मिलने वाले हैं, पहला राफेल अगले महीने 27 जुलाई को भारत को मिल जाएगा, योजना के अनुसार पहले 4 राफेल अंबाला आने वाले थे, लेकिन अब फ्रांस कुछ ज्यादा संख्या में विमानों को भेजेगा, 8 विमानों को सर्टिफिकेशन मिलने वाला है। आपको बता दें कि राफेल को आसमान का अजेय योद्धा माना जाता है, हवा से हवा में मनार करने वाले लंबी दूरी के मिसाइलों से ये लैस है, इसका निशाना अचूक होता है।

इजरायल भी मदद को आया आगे
चीन के साथ तनाव के बाद इजरायल एक बार फिर से भारत के डिफेंस सिस्टम को मजबूत करने के लिये तैयार है, इसे लद्दाख में तैनात किया जाएगा, सूत्रों का दावा है कि इजरायल से मिलने वाले मारक हथियार से भारत मजबूत है, इजरायल से बराक-8 मिसाइल डिफेंस सिस्टम के लिये भारत लंबे समय से बात कर रहा था, 2018 में ये जानकारी दी गई थी कि भारत ने 777 मिलियन डॉलर यानी करीब 5687 करोड़ रुपये की बराक-8 मिसाइल डिफेंस सिस्टम की डील की है।

पुराना मित्र देगा ब्रह्मास्त्र
भारत का पुराना मित्र रुस जल्द ही भारत के मिसाइल डिफेंस सिस्टम एस-400 उपलब्ध कराएगा, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह के मास्को दौरे के दौरान रुस जल्द ही इसे उपलब्ध कराने को सहमत हो गया है। आपको बता दें कि भारत के पास कई सारे हथियार रुस के हैं, ऐसे में भारत ने टैंक के गोले से लेकर लड़ाकू विमानों से गिराये जाने वाले बम तक की आपूर्ति जल्द करने का आग्रह किया है, सेना ने भी एंटी टैंक मिसाइल की मांग की है, रुस जल्द ही इन हथियारों की आपूर्ति करने वाला है।

अमेरिका हर मोर्चे पर साथ देने को तैयार
भारत का दोस्त अमेरिका हर मोर्चे पर साथ देने को तैयार है, वो फिलहाल खुफिया से लेकर सैटलाइट इमेज भारत को मुहैया करा रहा है, सैटलाइज इमेज के जरिये लद्दाख सीमा पर चीन की सारी हरकत दुनिया के सामने आ रही है, इतना ही नहीं अमेरिका ने भारत को तरह से मदद का आश्वासन दिया है, भारत ने अमेरिका से एम777 का ऑर्डर दिया है, ये हथियार पहाड़ी इलाकों में लड़ने के लिये काफी मददगार होता है।

Read Also – खुफिया एजेंसियों का अलर्ट! कोरोना वैक्सीन पर चीन पर नजर, अमेरिका ने लिया बड़ा फैसला