1 अक्टूबर से होने जा रहे हैं ये बड़े बदलाव, आपकी रोजमर्रा की जिंदगी पर होगा सीधा असर

0
235
changes 1 october

नए महीने की शुरुआत के साथ 1 अक्टूबर से ऐसे कई बदलाव हो रहे हैं जिनका असर आपकी जेब और पर्सनल लाइफ पर पड़ेगा. इसलिए घर से निकलने से पहले और कोई भी रोजमर्रा का काम करने से पहले आपके लिए इन नियमों को जानना बेहद जरूरी है. हालांकि 1 अक्टूबर से अनलॉक 5.0 भी शुरू होने जा रहा है जिसकी गाइडलाइन गृहमंत्रालय द्वारा बहुत जल्द जारी की जाएगी. उम्मीद है कि त्योहारों को देखते हुए इस बार दिशा-निर्देशों में बदलाव और अधिक छूट जनता को दी जा सकती है. तो चलिए जानते हैं कि 1 अक्टूबर से किन-किन चीजों पर बदलाव होगा.

बदल जाएंगे मोटर व्हीकल के नियम
1 अक्टूबर से होने जा रहे बदलावों का सबसे ज्यादा असर वाहन चालकों पर पड़ेगा क्योंकि मोटल व्हीकल के नियमों में बदलाव किया गया है. अब ड्राइविंग लाइसेंस के साथ ई-चालान और वाहनों के दस्तावेजों का रखरखाव सूचना प्रौद्योगिकी पोर्टल के माध्यम से किया जाएगा. इस पोर्टल को समय-समय पर अपडेट भी किया जाएगा. इस नियम के लागू होने से चालकों को सड़क पर कागजात दिखाने के झंझट से राहत मिल जाएगी.

पैसे भेजने पर 5% टैक्स
एक अक्टूबर से लागू हो रहे नए नियमों के मुताबिक अगर आप भारत से बाहर अपने किसी सगे-संबंधी को मदद के तौर पर पैसे भेजते हैं तो आपको 5 फीसदी टैक्स भरना होगा. लेकिन पैसे का ट्रांसफर उच्च शिक्षा के लिए लिए गए कर्ज से होता है तो TCS दर पैसे का 0.5 फीसद होगी. वित्त अधिनियम, 2020 की ओर से इस संबंध में धारा 206C में एक नई उपधारा (1G) डाली है.

टीवी खरीदना महंगा
अगर आप टीवी खरीदने के बारे में सोच रहे हैं तो आज ही खरीद लें क्योंकि 1 अक्टूबर से टीवी खरीदना महंगा हो जाएगा. क्योंकि सरकार एक अक्टूबर से टीवी के ओपन सेल के आयात पर पांच फीसदी कस्टम ड्यूटी लगाने जा रही है और ऐसा होने से टीवी की कीमत में उछाल आने की आशंका है. जानकारी के मुताबिक 32 इंच के टीवी का दाम 600 रुपये और 42 इंच वाले टीवी की कीमतों में 1,200 से 1,500 रुपये तक की बढ़ोतरी हो सकती है और इससे बड़े आकार वाली टीवी में ज्यादा वृद्धि.

बाजार में ताजी मिठाई
अगर आप बासी मिठाइयों से परेशान हो चुके हैं तो एक अक्टूबर से आपको राहत मिल जाएगी. क्योंकि बाजार में बिकने वाली खुली मिठाइयों को लेकर सरकार सख्त हो चुकी है और अब दुकानदार को अपने ग्राहकों को जानकारी देनी होगी कि मिठाई का इस्तेमाल कितने समय तक किया जा सकेगा. एफएसएसएआई ने खाने की चीज की सेफ्टी तय करने के अंतर्गत खाने का सामान बेचने वाले ग्राहकों के लिए एक अक्टूबर से खुली मिठाइयों की समय सीमा तय करना जरूरी कर दिया है. ये फैसला जनता की सेहत को ध्यान में रखते हुए लिया गया है.

स्वास्थ्य बीमा में ज्यादा सुविधाएं
एक अक्टूबर से स्वास्थ्य बीमा में मिलने वाली सुविधाओं में भी बदलाव होगा और जनता को अधिक सुविधाएं मिलेंगी. जी हां, बीमा नियामक इरडा के नियमों के तहत स्वास्थ्य बीमा में तीन बड़े बदलाव होंगे और बीमा कंपनियां अपनी नीतियों में महत्वपूर्ण उत्पादों की धाराओं को सरल बनाएंगी जिससे ग्राहक आसानी से समझ सकेंगे. इसके साथ दूसरा और बड़ा बदलाव टेलीमेडिसिन का होगा. जबकि तीसरा बदलाव क्लेम को लेकर होगा.

ये भी पढ़ेंः- हलवाई दुकान के लिये सरकार ने जारी की नई गाइडलाइन, 1 अक्टूबर से लागू