DHANBAD

मामले में सच्चाई क्या है, इसकी परतें जांच के बाद खुलेगी, लेकिन मायकेवालों ने जो आरोप लगाये हैं, वो काफी गंभीर हैं।

धनबाद जिले के मुनिडीह ओपी थाना इलाके के गरबूडीह गांव में 29 दिसंबर को विवाहिता की मौत के बाद परिजनों ने धनबाद ग्रामीण एसपी ऑफिस के बाहर शव रखकर प्रदर्शन किया, परिजन 30 दिसंबर की शाम 6 बजे से थाने के बाहर शव रखकर प्रदर्शन कर रहे थे, जिसकी गूंज अगले दिन 31 दिसंबर को भी जारी रही, चर्चा यही होती रही कि आखिर अंजुम आरा के साथ ससुराल वाले क्यों जुल्म करते थे, मामले में सच्चाई क्या है, इसकी परतें जांच के बाद खुलेगी, लेकिन मायकेवालों ने जो आरोप लगाये हैं, वो काफी गंभीर हैं, पड़ोस के लोग भी मायकेवालों के आरोपों के साथ खड़े हैं।

2020 में शादी
अंजुम आरा गोविंदपुर थाना क्षेत्र के जंगलपुर की रहने वाले मोबिन अंसारी की बेटी थी, जून 2020 में पिता के द्वारा रीति-रिवाज के साथ मुनिडीह थाना क्षेत्र के शास्त्रीनगर के रहने वाले रियाजुद्दीन अंसारी से बेटी का निकाह करवाया, आरोपों के मुताबिक शादी के बाद से ही नवविवाहिता के साथ ससुराल वाले मारपीट सकरते थे, प्रताड़ित करने का क्रम लगातार जारी रहा।

ड्रग्स देकर अवैध संबंध के लिये मजबूर
आरोप के मुताबिक विवाहिता को ड्रग्स देकर दूसरे के साथ शारीरिक संबंध बनाने के लिये पति और ससुराल वाले मजबूर करते थे, ऐसा नहीं करने पर मारपीट की जाती थी, इस बात की सूचना परिजनों द्वारा 1 साल पहले से स्थानीय मुनिडीह थाने से लेकर महिला थाना, एसडीपीओ, ग्रामीण एसपी, एसएसपी को दी गई थी, लेकिन गुहार लगाने के बाद भी पुलिस द्वारा किसी तरह की कोई कार्रवाई नहीं की गई।

शव के साथ प्रदर्शन
गुरुवार को परिजन तथा पड़ोसी विवाहिता के शव को लेकर एसएसपी ऑफिस पहुंचे, एसएससी ऑफिसर परिसर में शव को रखकर लोगों ने विरोध प्रदर्शन किया, परिजनों का आरोप है कि यदि पुलिस पति और ससुराल वालों के खिलाफ कार्रवाई की होती तो आज अंजुम जिंदा होती, मृतक के परिजनों को उसका शव बोकारो के बीजीएच अस्पताल में पड़ा हुआ पाया था, जिसके बाद पति और ससुराल वालों के खिलाफ आरोपों का सिलसिला चल रहा है।

Read Also – ग्राहकों को संबंध बनाने के लिये उकसाती थी, स्पा सेंटर की आड़ में ‘गंदा खेल’