shailash kumar yadav 1

पूरी घटना को किसी ने मोबाइल से रिकॉर्ड कर लिया, जिसका वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है, वीडियो वायरल होने के बाद लोगों कलेक्टर को ट्रोल कर रहे हैं।

उत्तर पूर्वी राज्य के पश्चिमी त्रिपुरा जिले से कोराना गाइडलाइन की पालन करवाने के लिये आईएएस अधिकारी शैलेश कुमार यादव द्वारा लोगों के साथ कथित बदसलूकी करने का मामला सामने आया है, दो मिनट का वीडियो भी सोशल मीडिया पर तेजी से फैल रहा है, इस वीडियो के वायरल होने के बाद आईएएस अधिकारी ने खुद ही माफी मांगी है।

कोरोना की वजह से त्रिपुरा में नाइट कर्फ्यू
दरअसल हुआ ये कि कोरोना की दूसरी लहर से हिंदुस्तान के कोने-कोने में कहर बरप रहा है, उतर-पूर्वी राज्य भी इससे अछूते नहीं हैं, त्रिपुरा में तो सरकार ने 22 अप्रैल से 30 अप्रैल के बीच रात 10 बजे से सुबह 5 बजे तक नाइट कर्फ्यू लगा रखा है। इस बीच पश्चिमी त्रिपुरा जिले में एक शादी कार्यक्रम था, रात को जिला कलेक्टर शैलेश कुमार यादव दल बल के साथ मैरिज हॉल पहुंचे, तथा कोरोना की गाइडलाइन का उल्लंघन करने का हवाला देते हुए दूल्हा, पंडित तथा अन्य लोगों को पीट डाला, मैरिज हॉल को भी सील करवा दिया।

क्या है वीडियो में
पूरी घटना को किसी ने मोबाइल से रिकॉर्ड कर लिया, जिसका वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है, वीडियो वायरल होने के बाद लोगों कलेक्टर को ट्रोल कर रहे हैं, वायरल वीडियो में दिख रहा है कि आईएएस शैलेश यादव काफी गुस्से में हैं, उन्होने कोरोना प्रोटोकॉल का उल्लंघन कर रहे लोगों को साथ-साथ दूल्हे को भी धक्के मारकर बाहर निकाला, आपदा प्रबंधन अधिनियम तथा अन्य मामलों के तहत केस दर्ज किया, साथ ही डीएम ने करीब 30 लोगों को गिरफ्तार किया, हालांकि बाद में सभी को छोड़ दिया गया।

4 विधायकों ने की निलंबन की मांग
विपक्षी सीपीएम ने डीएम के खिलाफ एक्शन की मांग की है, इसके अलावा त्रिपुरा के 4 विधायकों ने ही चीफ सेक्रेटरी को लेटर लिखकर डीएम शैलेश यादव को सस्पेंड करने की मांग की है, बीजेपी सांसद प्रतिमा भौमिक ने कहा कि वो इस घटना को लेकर दुल्हन के रिश्तेदारों से भी मिलेंगी। वीडियो वायरल होने के बाद सीएम बिप्लब कुमार देब ने मुख्य सचिव मनोज कुमार को घटना की रिपोर्ट देने को कहा है, हालांकि डीएम यादव ने कहा कि उन्होने किसी की भावना आहत करने के मकसद से ऐसा कुछ नहीं किया है, साथ ही उन्होने अपने बर्ताव के लिये माफी भी मांगी। हालांकि इसके बाद भी उन्हें मामले में जांच तक के लिये सस्पेंड कर दिया गया है।

Read Also – CBSE 10वीं और 12वीं परीक्षा को लेकर मोदी सरकार का बड़ा फैसला, जानिये मीटिंग में क्या हुआ?