laddakh

केन्द्रीय रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने गुरुवार को संसद में जानकारी दी थी, कि चीन के साथ पैंगोंग झील के उत्तरी और दक्षिणी किनारों पर सेनाओं के पीछे हटने का समझौता हो गया है।

लद्दाख में वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) पर पिछले 9 महीने से भारत और चीन के बीच बरकरार तनाव अब धीरे-धीरे कम हो रहा है, दोनों देशों के बीच हुई समझौता वार्ता के बाद अब चीन तेजी से पीछे हट रहा है, चीन और भारत की सेनाओं ने समझौते के तहत पैंगोंग लेक के उत्तरी तथा दक्षिणी तट से बुधवार को सुबह से पीछे हटना शुरु कर दिया है, दोनों सेनाओं ने इलाके में शांति कायम रखने के लिये आगे बढना चाहती है, ऐसे में मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक चीन की सेनाओं ने इलाके से सिर्फ 2 दिनों के भीतर 200 से ज्यादा टैकों को पीछे हटाया है।

संसद में जानकारी
केन्द्रीय रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने गुरुवार को संसद में जानकारी दी थी, कि चीन के साथ पैंगोंग झील के उत्तरी और दक्षिणी किनारों पर सेनाओं के पीछे हटने का समझौता हो गया है, rajnath singh भारत ने इस बातचीत में कुछ भी खोया नहीं है, उन्होने बताया कि पैंगोंग झील क्षेत्र में चीन के साथ सेनाओं के पीछे हटने का जो समझौता हुआ, और उसके मुताबिक दोनों पक्ष अग्रिम तैनाती चरणबद्ध, समन्वित और सत्यापित तरीके से हटाएंगे।

गतिरोध खत्म
बॉर्डर पर पिछले 9 महीने से गतिरोध के बाद ये सफलता मिली, है, रक्षा मंत्री ने लोकसभा तथा राज्यसभा में अपने बयान में कहा कि अभी भी पूर्वी लद्दाख में वास्तविक नियंत्रण रेखा पर तैनाती और गश्ती के बारे में कुछ लंबित मुद्दे बचे हुए हैं, जिन्हें आगे की बातचीत में रखा जाएगा।

टैंक पीछे लिया
भारतीय सेना ने वीडियो पोस्ट किया है, जिसमें पैंगोंग झील के दक्षिणी किनारे से चीन की पीपुल्स लिबरेशन आर्मी के तीन टैकों के पीछे हटाते तथा भारतीय सैनिकों द्वारा एक टैंक को पीछे हटाते हुए देखा जा सकता है, इसके अलावा दोनों पक्षों के सैनिकों के बीच बैठक की संक्षिप्त फुटेज भी है, सूत्रों ने बताया कि टैंकों और अन्य बख्तरबंद सैन्य साजो सामान को टकराव वाले खास स्थानों से हटाने की प्रक्रिया पूरी होने के करीब है, जबकि झील के उत्तरी किनारे से सैनिकों को पीछे हटाने का कार्य किया जा रहा है।

Read Also – चीन की दुखती नस दबा रहा भारत, इस डर से पैगोंग से पीछे हट रहा भारत!