Rawat1

बचावकर्मी के अनुसार दुर्घटनास्थल के पास पेड़ भी थे, जिसकी वजह से ऑपरेशन में काफी मुश्किल हो रहा था, मुश्किल परिस्थितियों की वजह से बचाव कार्यों में देरी हो रही थी।

तमिलनाडु के कुन्नूर में हुए हेलीकॉप्टर क्रैश के बाद सीडीएस जनरल बिपिन रावत जिंदा था, वो अपना नाम बता पाने में भी सक्षम थे, ये दावा उस शख्स ने किया है, जो बिखरे मलबे के पास सबसे पहले पहुंचा था, हादसे के बाद वहां राहत तथा बचाव के लिये पहुंची टीम में शामिल एनसी मुरली नाम के बचावकर्मी ने कहा हमने 2 को जिंदा बचाया, जिसमें एक सीडीएस बिपिन रावत थे, उन्होने धीमी आवाज में अपना नाम बताया था, उनकी मौत अस्पताल ले जाते हुए रास्ते में हुई, हम जिंदा बचे दूसरे शख्स की पहचान नहीं कर सके।

बुरी तरह झुलस गये थे
बचावकर्मी के अनुसार सीडीएस जनरल बिपिन रावत के शरीर के निचला हिस्सा बुरी तरह झुलस गया था, जिसके बाद उन्हें एक बेडशीट में लपेट कर एंबुलेंस में ले जाया गया था, एनसी मुरली फायर सर्विस टीम में शामिल थे, जो राहत बचाव के लिये वहां पहुंची थी, उन्होने ये भी बताया कि जलते विमान के मलबे को बुझाने के लिये फायर सर्विस इंजन को वहां तक ले जाने के लिये सड़क नहीं थी, आसपास के घरों और नदियों से पानी लाकर इस आग को बुझाने की कोशिश की गई, ये ऑपरेशन काफी मुश्किल था।

ऑपरेशन मुश्किल
बचावकर्मी के अनुसार दुर्घटनास्थल के पास पेड़ भी थे, जिसकी वजह से ऑपरेशन में काफी मुश्किल हो रहा था, मुश्किल परिस्थितियों की वजह से बचाव कार्यों में देरी हो रही थी, बचावकर्मियों को 12 लोगों की डेड बॉडी मिली, जबकि 2 को जिंदा बचाया गया था, जिंदा बचे दोनों लोग बुरी तरह से झुलसे हुए थे, बाद में जिंदा बचाये गये दूसरे शख्स की पहचान ग्रुप कैप्टन वरुण सिंह के रुप में हुई, वायुसेना बचाव दल को हेलीकॉप्टर के खंडित हो चुके हिस्सों के बारे में लगातार गाइड कर रही थी।

प्रत्यक्षदर्शी ने क्या कहा
जिस जगह पर ये चॉपर हादसे का शिकार हुआ, वहां से करीब 100 मीटर की दूरी पर काटेरी गांव है, जहां की रहने वाली पोथम पोनम ने चॉपर के क्रैश होने से पहले उसके गुजरने की आवाज सुनी, उन्होने बताया कि इसके कुछ समय बाद ही एक जोरदार धमाका हुआ और पता चला कि हेलीकॉप्टर क्रैश हो चुका है, काटेरी के रहने वाले लोगों ने जिले के अधिकारियों को खबर दी थी, जिसके बाद उनके इलाके की बिजली तुरंत काट दी गई थी, हालांकि जब उन लोगों ने घटनास्थल पर जाने की कोशिश की, तो पुलिस ने उन्हें रोक दिया था।

Read Also – जिसमें पत्नी समेत सवार थे बिपिन रावत, सेना का सबसे सुरक्षित हेलीकॉप्टर, जानिये खासियत