gupteswar pandey1

पिछले हफ्ते गुप्तेश्वर पांडे अयोध्या में नजर आये थे, जहां पर उन्होने हनुमानगढी मंदिर के दर्शन किये और पूजा अर्चना की, इसकी तस्वीरें भी उन्होने अपने फेसबुक पेज पर साझा की थी।

एक्टर सुशांत सिंह राजपूत की मौत के बाद जबरदस्त सुर्खियों में आये बिहार के पूर्व डीजीपी गुप्तेश्वर पांडे पहले रॉबिनहुड की भूमिका में नजर आये, फिर उन्होने राजनीति में कदम रखा, अब पिछले कुछ दिनों से गुप्तेश्वर पांडे बिल्कुल नये अवतार में नजर आ रहे हैं, गेरुआ वस्त्र धारण करके अब वो कथावाचक बन गये हैं।

कथावाचक की भूमिका में
24 जून को एक निजी बैनर के तहत गुप्तेश्वर पांडे श्रीमद् भागवत वचन अमृत कार्यक्रम में कथावाचक की भूमिका में नजर आये, इसका वीडियो सोशल मीडिया पर भी वायरल हो रहा है, इस कार्यक्रम से कुछ दिन पहले ही इसकी चर्चा सोशल मीडिया पर खूब हो रही थी। इस कार्यक्रम में शामिल होने के लिये सोशल मीडिया पर जो ऑनलाइन निमंत्रण पत्र जारी की गई थी, उसमें पूर्व डीजीपी की तस्वीर थी, और बताया गया था कि गुप्तेश्वर पांडे इसमें कथावाचक की भूमिका में होंगे, इस वर्चुअल कार्यक्रम में शामिल होने के लिये लोगों को जूम कॉल आईडी और पासवर्ड भी साझा किया गया था।

राजनीति में कदम
ये कोई पहला मौका नहीं था जब 1987 बैच के आईपीएस गुप्तेश्वर पांडे कथावाचक की भूमिका में नजर आये हैं, पिछले साल बिहार विधानसभा चुनाव से ठीक पहले उन्होने डीजीपी के पद से समय से पहले ही रिटायरमेंट ले लिया था और राजनीति में उतर गये थे। बिहार विधानसभा चुनाव लड़ने के इरादे से उन्होने जदयू का दामन थामा था, पार्टी में शामिल हो गये, लेकिन टिकट नहीं मिला, राजनीति में सफलता ना मिलने के बाद वो पिछले कुछ समय से अध्यात्म की ओर चल पड़े हैं। इन दिनों उनका ज्यादातर समय बिहार से बाहर ही गुजरता है, इस दौरान वो प्रसिद्ध मंदिरों का दौरा करते हैं और कथा वाचन भी करते हैं।

अयोध्या में नजर आये
पिछले हफ्ते गुप्तेश्वर पांडे अयोध्या में नजर आये थे, जहां पर उन्होने हनुमानगढी मंदिर के दर्शन किये और पूजा अर्चना की, इसकी तस्वीरें भी उन्होने अपने फेसबुक पेज पर साझा की थी, इस दौरान 8 दिनों के लिये वो अयोध्या में रहे और कथावाचन किया।

Read Also – पाला बदल सकते हैं चिराग पासवान, तेजस्वी के साथ गठबंधन पर कही बड़ी बात