chirag54

दिल्ली में राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक के बाद चिराग पासवान ने कहा कि पार्टी का अनुशासन तोड़ने के लिये बैठक में बागी सदस्यों की निंदा की गई है, जिन लोगों ने पार्टी तोड़ी है उनके खिलाफ अनुशासनात्मक कार्रवाई की जाएगी।

लोकजनशक्ति पार्टी में पद और पावर को लेकर चिराग पासवान और उनके चाचा पशुपति कुमार पारस के बीच खींचतान जारी है, इस बीच पूर्व केन्द्रीय मंत्री रामविलास पासवान के बेटे और जमुई सांसद चिराग पासवान ने राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक बुलाकर चाचा को अपना दम दिखाया है, बैठक के बाद चिराग ने कहा कि आज दिल्ली में हमारी पार्टी के राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक हुई, हमने फैसला लिया है कि निष्कासित लोग पार्टी सिंबल का इस्तेमाल ना करें।

बागी सदस्यों की निंदा
दिल्ली में राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक के बाद चिराग पासवान ने कहा कि पार्टी का अनुशासन तोड़ने के लिये बैठक में बागी सदस्यों की निंदा की गई है, जिन लोगों ने पार्टी तोड़ी है उनके खिलाफ अनुशासनात्मक कार्रवाई की जाएगी, साथ ही 5 जुलाई से आशीर्वाद यात्रा पिता की कर्मभूमि रही हाजीपुर से शुरु की जाएगी, बिहार के हर जिले में लोगों से चुनाव में मिले आशीर्वाद के लिये धन्यवाद करने जाएंगे, इसके अलावा चिराग ने कहा कि हमने राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक में तय किया कि हमारे स्वर्गीय नेता और मेरे पिता रामविलास पासवान को भारत रत्न मिले, बिहार में उनकी बड़ी प्रतिमा बनाई जाए।

5 जुलाई ही क्यों
चाचा के साथ लड़ाई के बीच चिराग पासवान 5 जुलाई से बिहार के हाजीपुर से आशीर्वाद यात्रा की शुरुआत करेंगे, बता दें कि 5 जुलाई रामविलास पासवान का जन्मदिन होता है, हाजीपुर रामविलास की कर्मभूमि रही है, वो 8 बार इस सीट से सांसद रह चुके हैं, हालांकि फिलहाल इस सीट से पशुपति कुमार पारस सांसद हैं।

अब तक क्या हुआ
लोजपा में पारस गुट की ओर से बगावत के बाद चिराग पासवान ने उन्हें और पांचों सांसदों को बाहर का रास्ता दिखाया है, लेकिन लोजपा पर पारस गुट ने भी अपना दावा किया है, इससे पहले लोजपा अध्यक्ष चिराग पासवान चुनाव आयोग में पारस गुट के खिलाफ शिकायत कर चुके हैं, इसके अलावा चिराग ने लोकसभा स्पीकर से भी मुलाकात कर खुद की पार्टी का पक्ष और पारस गुट की शिकायत की, साथ ही स्पीकर से अनुरोध किया कि पशुपति पारस को लोकसभा में लोजपा संसदीय दल का नेता बनाये जाने के फैसले की समीक्षा करें, क्योंकि ये पार्टी संविधान के खिलाफ है, दूसरी ओर चिराग पासवान की बैठक से पहले पारस गुट ने भी राष्ट्रीय कार्यकारिणीँ का ऐलान कर दिया है, चिराग और पारस गुट ने भी चुनाव आयोग को अपने पक्ष से अवगत करा दिया है।

Read Also – करोड़ों की संपत्ति के मालिक हैं चिराग पासवान, लाखों की कार में करती हैं सवारी, जानिये बंगले की कीमत