indore21

कहा जा रहा था कि मुस्लिम होने की वजह से पीटा गया, सोमवार को इस मामले में राष्ट्रीय अल्पसंख्यक आयोग ने भी प्रदेश सरकार से रिपोर्ट तलब की थी।

इंदौर में सोमवार को दिनभर चूड़ी वाले को कथित रुप से नाम पूछकर पीटे जाने का मामला अब पूरी तरह से पलट गया है, एक तरफ सोमवार को दिन भर इस पर हंगामा रहा, अल्पसंख्यक समुदाय के व्यक्ति की पिटाई पर सवाल खड़े होते रहे, वहीं अब उस शख्स पर ही यौन उत्पीड़न का केस पुलिस ने दर्ज किया है, इसके अलावा उस शख्स पर अपनी पहचान छिपाने का भी आरोप है, इंदौर पुलिस ने चूड़ी बेचने वाले तस्लीम अली पर यौन उत्पीड़न का केस दर्ज कर लिया है, इससे पहले आरोप लगे थे कि भीड़ ने उसका नाम पूछकर पिटाई की, कहा जा रहा था कि मुस्लिम होने की वजह से पीटा गया, सोमवार को इस मामले में राष्ट्रीय अल्पसंख्यक आयोग ने भी प्रदेश सरकार से रिपोर्ट तलब की थी।

वीडियो वायरल हुआ था
युवक की पिटाई का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुआ था, जिसके बाद पुलिस मामले की जांत में जुटी थी, आरोप है कि चूड़ी बेचने के नाम पर वो महिलाओं के साथ छेड़खानी कर रहा था, जिसकी वजह से भीड़ ने उसकी पिटाई की, पुलिस ने तस्लीम के खिलाफ विभिन्न धाराओं में मुकदमा दर्ज किया है, इसके अलावा पॉक्सो एक्ट भी लगाया है, इंदौर पुलिस एसपी आशुतोष बागड़ी ने कहा कि चूड़ी बेचने वाले के पास से दो आधार कार्ड मिले हैं, एक में उसका नाम तस्लीम अली है, पिता का नाम मोहर अली लिखा है।

दो आधार कार्ड
इसके अलावा दूसरे आधार कार्ड में उसका नाम असलीम है, पिता का नाम मोर सिंह है, इसके साथ ही उसके पास से एक अधजला वोटर आईडी कार्ड भी मिला है, जिसमें उसके पिता का नाम मोहन सिंह लिखा है। इससे पहले पुलिस ने चूड़ी बेचने वाले तस्लीम से मारपीट के मामले में अज्ञात लोगों के खिलाफ लूटपाट और पिटाई का केस दर्ज किया है, वायरल वीडियो को लेकर एसपी आशुतोष बागड़ी ने कहा वायरल वीडियो में साफ दिखता है, कि चूड़ी बेचने वाले को बाणगंगा पुलिस थाना इलाके में कुछ लोग पीट रहे हैं, उसे गालियां दे रहे हैं, मुकदमा दर्ज कर लिया गया है, वीडियो से लोगों की पहचान की जाएगी, उनके खिलाफ एक्शन लिया जाएगा।

गृह मंत्री का बयान
ये पूरा मामला प्रदेश के गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा के बयान के बाद पलटा, उन्होने कहा कि इस घटना को सांप्रदायिक रंग नहीं देना चाहिये, यदि कोई व्यक्ति अपना नाम, जाति तथा धर्म छिपाता है, तो इससे कड़वाहट पैदा होती है, हमारी बेटियां सावन के पवित्र महीने में चूड़ियां पहनती हैं, और मेहंदी लगवाती है, वो चूड़ी बेचने वाले के रुप में आया, इसे लेकर कंफ्यूजन था, पूरा सच उसकी अलग-अलग आईडी देखने के बाद ही सामने आया।

Read Also – पत्नी के साथ एक्सपेरिमेंट पड़ गया भारी, $ex लाइफ हो गया बर्बाद