महिलाएं-लड़कियां इन 3 लक्षणों को कभी ना करें नजरअंदाज, हो सकती है गंभीर बीमारी!

0
80
girl3

कई महिलाएं अनियमित पीरियड्स या पीरियड्स में खून के थक्के जमना या मिस्ड पीरियड्स को सामान्य मानती है, इसे शरीर की कमजोरी से जोड़ देती है।

महिलाएं समय के साथ अपने शरीर के कई बदलावों से गुजरती हैं, ऐसी स्थिति में उन्हें कई स्वास्थ्य संबंधी लक्षण जैसे कि वेजाइनिल डिस्चार्ज यानी योनी स्त्राव, यूरिन इंफेक्शन या पेल्विक पेन यानी पेडू में दर्द हो सकता है, इन रोगों को उन्हें अनदेखा नहीं करना चाहिये, जितनी जल्दी हो सके एक स्त्री रोग विशेषज्ञ से परामर्श लेनी चाहिये, क्योंकि सावधानी और रोकथाम गंभीर स्वास्थ्य समस्याओं से बचने का एकमात्र तरीका है, साथ ही नियमित रुप से हेल्थ चेकअप जीवन जीने का सही तरीका है, हालांकि बहुत कम महिलाएं बिना किसी बीमारी के डॉक्टर के पास जाती है, यहां सबसे महत्वपूर्ण हिस्सा ये जानना है कि महिलाओं के लिये सुरक्षित रहना कितना महत्वपूर्ण है, किसी भी लापरवाही से जीवन भर स्वास्थ्य संबंधी परेशानियों खड़ी हो सकती है, जब अपने शरीर में इनमें से किसी भी लक्षण को महसूस करते हैं, तो बिना समय बर्बाद किये अपने स्त्री रोग विशेषज्ञ डॉक्टर से मिलना चाहिये।

अनियमित पीरियड्स या मिस्ड पीरियड्स
कई महिलाएं अनियमित पीरियड्स या पीरियड्स में खून के थक्के जमना या मिस्ड पीरियड्स को सामान्य मानती है, इसे शरीर की कमजोरी से जोड़ देती है, Girl Bihar लेकिन ये जानना जरुरी है कि ये शरीर के अंदर कुछ होने के संकेत हो सकते हैं, इसलिये अगर पीरियड्स के दौरान कोई अजीब एहसास होता है, जैसे चक्कर आना या कमजोरी लगना तो तुरंत डॉक्टर से सलाह लें।

वेजाइनल डिस्चार्ज
वेजाइनल डिस्चार्ज और वेजाइनल इचिंग यानी खुजली या दुर्गंध कुछ योनि में संक्रमण के संकेत हो सकते हैं, जैसे बैक्टीरियल इंफेक्शन, यीस्ट इंफेक्शन या सेक्सुअली ट्रांसमिटेड इंफेक्शन, ज्यादातर मामलों में ये समस्याएं अपने आप दूर नहीं होती है, इसलिये पीड़िता तो डॉक्टर से सलाह लेनी चाहिये, सामान्यतः सफेद और हल्के चिपचिपे वेजाइनल डिस्चार्ज का मतलब है कि महिला स्वस्थ्य है, इसमें जरा भी बदलाव नजर आये, तो इसे स्वास्थ्य से जुड़े संकेत के तौर पर लें।

पीरियड्स के बाद ब्लीडिंग
अगर पीरियड्स के बाद कभी-कभार ब्लीडिंग होती है, या पीरियड्स के दौरान तेज दर्द होता है, तो अपने डॉक्टर से सलाह लें, ये वेजाइनल या सर्विकल या गर्भाशय के कैंसर का संकेत हो सकता है, इसके अलावा अगर रजोनिवृत्ति के कारण भी पीरियड्स रुक गये हों, तो चेकअप जरुर कराना चाहिये।

Read Also – मोदी सरकार की चीन पर डिजिटल स्ट्राइक, बैन किए 59 चायनीज ऐप