Urfi Javed

उर्फी जावेद ने कहा, आप क्या करते हो, आपको पता ही होगा, इस्लाम में प्री-मैरिटल सेक्स हराम है, लेकिन आप करते हो और इनमें से कितने लोग ऐसे हैं, जो 5 वक्त की नमाज पढते हैं।

टीवी एक्ट्रेस उर्फी जावेद अपने अजीबो-गरीब फैंशन सेंस को लेकर सुर्खियों में रहती हैं, अतरंगी स्टाइल के साथ-साथ बोल्ड बयानों के लिये भी चर्चा बटोरती है, उन्होने हाल ही में सभी को अपने बयान से चौंका दिया था कि वो इस्लाम फॉलो नहीं करती है, उन्होने तालिबान के पतन की भी कामना की थी, हालांकि इन सबकी वजह से उन्हें ट्रोलिंग का भी शिकार होना पड़ा, उनकी खूब आलोचना हुई, लेकिन उर्फी ने एक बार फिर से मुस्लिम कट्टरपंथियों पर हमला बोला है, उन्होने उनकी तस्वीरों पर कमेंट करने वालों को करार जवाब दिया है, साथ ही उन लोगों को फिर से कुरान पढने की नसीहत दी है, उन्होने कहा कि लड़कियों की तस्वीरें देखने की बजाय मर्दों को नजर का पर्दा करना चाहिये।

नजर का पर्दा
उर्फी वीडियो में कह रही है, वो सभी मुस्लिम कट्टरपंथी, जो मेरी तस्वीरों पर लगातार कमेंट कर रहे हैं, कि मैं इस्लाम के नाम पर धब्बा हूं, मेरे खिलाफ फतवा जारी कर देना चाहिये, मेरे कपड़े ऐसे नहीं वैसे नहीं… आपको बता है कि कुरान में ये कहीं भी नहीं लिखा, कि आप एक औरत को जबरदस्ती पर्दा कराओ, ये जरुर लिखा है कि एक औरत को पर्दा करना चाहिये, लेकिन ये नहीं लिखा, कि अगर वो नहीं कर रही है, तो जबरदस्ती उस पर गालियों का बौछार कर दो, उसको इतना शर्मिंदा करो कि वो खुद ही परदे में आ जाए, नहीं लिखा है, आप जाकर फिर से कुरान पढो, हां लेकिन ये जरुर लिखा है कि मर्दों को नजरों का पर्दा करना जरुरी है।

हजारों साल पहले बने इस्लाम के नियम
एक्ट्रेस ने सोशल मीडिया पर जाकर लड़कियों की तस्वीरें देखने को हराम बताया है, उन्होने कहा एक आदमी औरतों को शादी से पहले उस नजरिये से देख ही नहीं सकता, तो जो लोग इंस्टाग्राम पर जाकर लड़कियों को देखते हैं, फिर उनकी तस्वीरों पर फालतू के कमेंट्स करते हैं, ये हराम है, आप ये सब नहीं कर सकते, आप ऐसी औरतों की तस्वीरें भी नहीं देख सकते हो, स्पेशल जब उन्होने कपड़े नहीं पहने हैं, बहुत गलत कर रहे हो आप, जो इस्लाम के नियम बने थे, वो डेढ हजार साल पहले बने थे, जब औरतों के पास कोई अधिकार नहीं थे।

इस वजह से 4 शादियों को मंजूरी
उर्फी जावेद ने इस्लाम में 4 शादियों की मंजूरी की वजह के बारे में भी बताया, उन्होने कहा इस्लाम में 4 शादियों को इसलिये मंजूरी दी गई, क्योंकि उस समय औरतों के पति मर जाते थे, तो लोग उनका रेप कर देते थे, उनके पास इतना अधिकार नहीं था, कि वो जाकर न्याय मांगें, वो एक औरत की मॉडिस्टी को प्रोटेक्ट करने के लिये 4 शादियां अलाउड की गई, लेकिन डेढ हजार साल बाद, क्या मैं दबी हुई मुस्लिम महिला की तरह लगती हूं, नहीं मैं नहीं हूं, मैं आपकी हेल्प नहीं मांग रही हूं, मैं आपकी सलाह भी नहीं मांग रही, मुझे सलाह देना बंद करो, मैं अपने बॉडी के साथ क्या करुं, कैसे कपड़े पहनूं, कितनी ऐसी इस्लाम में चीजें लिखी है, जो आप खुद फॉलो नहीं करते हैं, लेकिन दूसरों को हिदायत देते हो, कि ऐसे नहीं वैसे कपड़े पहनो।

इस्लाम में प्री-मेरिटल सेक्स हराम
उर्फी जावेद ने कहा, आप क्या करते हो, आपको पता ही होगा, इस्लाम में प्री-मैरिटल सेक्स हराम है, लेकिन आप करते हो और इनमें से कितने लोग ऐसे हैं, जो 5 वक्त की नमाज पढते हैं, मुझे तो लगता ही नहीं कि कोई भी ऐसा होगा, क्योंकि अगर आप 5 वक्त की नमाज पढते होते, तो इंस्टाग्राम पर लड़कियों की तस्वीरों पर कमेंट करने का इतना समय नहीं मिलता, मैं इस्लाम फॉलो भी नहीं करती हूं, मैं धर्म में विश्वास नहीं करती, मैं आध्यात्मिक शख्स हूं और ये मेरी च्वाइस है, अल्लाह भी एक ही चीज कहते हैं, जो भी करो, दिल से करो, अगर आप दिल से कुछ नहीं कर रहे हो, सिर्फ ऊपर जाने के लिये कर रहे हो, तो आपको कभी जन्नत नसीब नहीं होगी, इससे बेहतर है कि आप जाकर किसी इंसान की मदद करो, किसी गरीब की मदद करो, और औरतों को उस नजरिये से देखना बंद करो, तब जाकर आप सच्चे मुसलमान कहलाओगे।

Read Also – दिशा पाटनी ने चढाया इंटरनेट का पारा, मालदीव से पोस्ट कर रही ताबड़तोड़ तस्वीरें