Wednesday, May 12, 2021

कंंगना रनौत ऑफिस तोड़-फोड़ पर हाई कोर्ट ने सुनाया फैसला, कही ऐसी बात!

जस्टिस एसजे कैथावाला और आरआई छागला की बेंच ने इस मामले में फैसला सुनाते हुए कहा कि जिस तरह से ये तोड़फोड़ की गई, वो अनाधिकृत था, ऐसा गलत इरादे से किया गया था।

बॉलीवुड एक्ट्रेस कंगना रनौत के मुंबई स्थित ऑफिस में 9 सितंबर को बीएमसी द्वारा की गई तोड़-फोड़ को लेकर बॉम्बे हाईकोर्ट ने फैसला सुना दिया है, कोर्ट ने कहा कि बीएमसी का एक्शन दुर्भाग्यपूर्ण रवैये से किया गया है, कोर्ट ने कहा कि बीएमसी को कंगना के ऑफिस में तोड़-फोड़ के लिये हर्जाना देना होगा। हाई कोर्ट ने कंगना के ऑफिस के नुकसान का आकलन करने का आदेश दिया है, इस संबंध में अधिकारी मार्च 2021 तक अपनी रिपोर्ट कोर्ट को सौंपेगे, नुकसान की भरपाई के लिये एजेंसी की रिपोर्ट पर फैसला हाईकोर्ट बाद में सुनाएगा।

अनाधिकृत तोड़-फोड़
जस्टिस एसजे कैथावाला और आरआई छागला की बेंच ने इस मामले में फैसला सुनाते हुए कहा कि जिस तरह से ये तोड़फोड़ की गई, वो अनाधिकृत था, ऐसा गलत इरादे से किया गया था, ये याचिकाकर्ता को कानूनी मदद लेने से रोकने का एक प्रयास था, कोर्ट ने अवैध निर्माण के बीएमसी के नोटिस को भी रदद कर दिया है।

खास इरादे से निशाना
सुनवाई के दौरान कोर्ट ने कहा कि मामले को देख ऐसा लगता है कि विध्वंस की कार्रवाई एक्ट्रेस के ट्वीट्स और बयानों के लिये से निशाना बनाने के इरादे से की गई है, BMC kangna बॉम्बे हाईकोर्ट ने कंगना द्वारा दायर याचिका में विध्वंस नोटिस को खारिज किया, कोर्ट ने कहा कि अगर आवश्यक हो, तो नियमितीकरण के लिये स्पष्टीकरण दें।

एक्ट्रेस को दी ये हिदायत
कोर्ट ने कंगना रनौत को सार्वजनिक मंच पर विचारों को रखने में संयम बरतने को कहा, लेकिन साथ में ये भी कहा कि किसी राज्य द्वारा किसी नागरिक की गैर-जिम्मेदाराना टिप्पणियों को नजरअंदाज किया जाता है। किसी नागरिक के ऐसे गैर-जिम्मेदाराना टिप्पणियों के लिये राज्य की इस तरह की कोई कार्रवाई कानून के अनुसार नहीं हो सकती है।

Related Articles

- Advertisement -spot_img

Latest Articles