Mukesh-Ambani (1) (1)

मुकेश अंबानी को शुरुआत से ही पढने-पढने का काफी शौक था, वो पढने के इतने शौकीन थे, कि रात को कभी-कभार उन्हें पढते-पढते 2 बजे जाते थे, उन्हें विज्ञान और टेक्नोलॉजी में काफी रुचि थी।

रिलायंस इंडस्ट्रीज के मुखिया और भारत के सबसे अमीर उद्योगपति मुकेश अंबानी अकसर चर्चा में रहते हैं, कभी अपनी लग्जरी लाइफस्टाइल को लेकर तो कभी अपने साधारण व्यक्तित्व को लेकर खबरों में छाये रहते हैं, हालांकि बचपन से ही मुकेश अंबानी की जिंदगी का मकसद पैसे कमाना नहीं बल्कि कुछ और था।

जिंदगी का था ये मकसद
इस बात का खुलासा मुकेश अंबानी ने एक इंटरव्यू के दौरान किया था, दरअसल मुकेश अंबानी का कहना है कि उनका मकसद हमेशा से ही ज्यादा से ज्यादा पैसे कमाना नहीं बल्कि चैलेंज लेना रहा है, mukesh ambani मुकेश अंबानी को शुरुआत से ही पढने-पढने का काफी शौक था, वो पढने के इतने शौकीन थे, कि रात को कभी-कभार उन्हें पढते-पढते 2 बजे जाते थे, उन्हें विज्ञान और टेक्नोलॉजी में काफी रुचि थी।

इंजीनियरिंग करने की इच्छा
मुकेश अंबानी ने एक इंटरव्यू में बताया था द ग्रेजुएट फिल्म देखकर उनके मन में केमिकल इंजीनियरिंग करने की इच्छा जागी थी, तब ये फिल्म जबरदस्त पॉपुलर हुई थी, mukesh ambani मुकेश अंबानी का सलेक्शन आईआईटी बॉम्बे में भी हो गया था, हालांकि ये छोड़कर उन्होने केमिकल इंजीनियरिंग इंस्टीट्यूट यीडीसीटी में एडमिशन ले लिया था।

साउथ इंडियन खाना पसंद
एक इंटरव्यू के दौरान मुकेश अंबानी ने बताया कि मुझे साउथ इंडियन खाना बेहद पसंद है, मुकेश को मुंबई के माटूंगा में मैसूर कैफे का इडली-सांभर बेहद ही पसंद है।  मुकेश और नीता की लव स्टोरी भी किसी फिल्मी कहानी से कम नहीं है, एक कार्यक्रम के दौरान धीरुभाई अंबानी और कोकिलाबेन ने नीता को देखा था, नीता को देखते ही धीरुभाई ने उन्हें बहू बनाने के लिये चुन लिया। एक मध्यम वर्गीय परिवार से संबंध रखने वाली नीता के लिये ये सब किसी सपने से कम नहीं था, दोनों परिवार की रजामंदी से दोनों की शादी हुई, हालांकि अंबानी परिवार की बहू बनने के बाद भी नीता अंबानी ने स्कूल में पढाना जारी रखा, शादी से पहले भी नीता एक स्कूल में पढाया करती थी।

Read Also – जिस बिजनेस पर ध्यान भी नहीं दे रहे थे मुकेश अंबानी, उसी ने 1 दिन में कराया 34 हजार करोड़ का फायदा