गौतम अडानी- कभी फैक्ट्री में काम, 4 साल में चार गुनी बढ गई संपत्ति, अब हासिल की बड़ी उपलब्धि

0
87
adani solour

गौतम अडानी के कारोबार ने तब रफ्तार पकड़ी, जब उन्हें मुंद्रा में देश के सबसे बड़े बंदरगाह के मैनेजमेंट का ठेका मिला, कहा जाता है कि फिरौती के लिये साल 1997 में उनका अपहरण किया गया था।

तेजी से उभरते दिग्गज कारोबारी गौतम अडानी की कंपनी ग्रीन एनर्जी लिमिटेड को दुनिया के सबसे बड़ा सोलर पावर प्लांट बनाने का ठेका मिला है, इसके तहत कंपनी 8000 मेगावॉट का सोलर पावर प्लांट तैयार करेगी, इसके साथ ही दो हजार मेगावॉट के डोमेस्टिक सोलर पैनल भी तैयार करेगी, 6 अरब डॉलर यानी करीब 45,300 करोड़ रुपये के इस टेंडर के साथ ही अडानी समूह दुनिया का सबसे बड़ा सोलर पावर कांट्रेक्ट हासिल कर लिया है, इस कांट्रेक्ट के लिये बोलियां बीते साल नवंबर में आमंत्रित की गई थी, जिसका नतीजा अब घोषित किया गया है।

कहां लगेगा प्लांट
अडानी समूह के सूत्रों का दावा है कि कंपनी राजस्थान और जयपुर में फैसिलिटी स्थापित कर सकता है, राजस्थान सरकार की ओर से जैसलमेर, बीकानेर, जोधपुर, जालोर और बाड़मेर में सोलर इंफ्रास्ट्रक्चर स्थापित ककने के प्रस्ताव को मंजूरी दे दी है, गुजरात में कंपनी कच्छ में प्लांट लगा सकती है।

फर्श से अर्श तक का सफर
गौतम अडानी ने अपने बलबूते फर्श से अर्श तक का सफर तय किया है, सिर्फ 18 साल की उम्र में कॉलेज छोड़कर मुंबई की ट्रेन पकड़ने वाले गौतम अडानी ने डायमंड ट्रेडर के तौर पर काम शुरु किया था, शुरुआती दिनों में उन्हें कई झटके झेलने पड़े, जिसके बाद साल 1981 में वो वापस गुजरात लौट गये और अपने बड़े भाई के साथ प्लास्टिक फैक्ट्री में काम करने लगे। फिर साल 1988 में उन्होने फ्लैगशिप कंपनी अडानी इंटरप्राइजेज की स्थापना की और नये सफर पर निकल पड़े, इसके बाद उन्होने पलटकर देखा नहीं।

1997 में किडनैप
गौतम अडानी के कारोबार ने तब रफ्तार पकड़ी, जब उन्हें मुंद्रा में देश के सबसे बड़े बंदरगाह के मैनेजमेंट का ठेका मिला, कहा जाता है कि फिरौती के लिये साल 1997 में उनका अपहरण किया गया था, इसके साथ ही साल 2008 मुंबई आतंकी हमले में भी वो बाल-बाल बचे थे, 2009 में उन्होने अडानी पावर की शुरुआती की, अडानी एक के बाद एक नये बिजनेस में हाथ आजमा रहे हैं, 2014 के बाद उनके कारोबार ने जबरदस्त रफ्तार पकड़ी।

4 साल में चौगुनी बढी संपत्ति
2016 में गौतम अडानी की कुल संपत्ति 264 अरब डॉलर थी, जबकि आज वो 1180 अरब डॉलर के मालिक हैं, सिर्फ चार सालों में ही उनकी संपदा चार गुना बढ गई है, गौतम अडानी की कंपनी देश की सबसे बड़ी पोर्ट ऑपरेटर कंपनी है, इतना ही नहीं अडानी समूह का कारोबार थर्मल कोल और कोल ट्रेडिंग में भी है।